लखनऊ: छत्तीसगढ़ में अजित जोगी की अगुवाई वाली जनता कांग्रेस-छत्तीसगढ़ (जे) के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ रही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने चुनाव में स्पष्ट बहुमत मिलने का दावा किया. मायावती ने कहा कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो उनका गठजोड़ भाजपा या कांग्रेस से गठबंधन करने के बजाय विपक्ष में बैठना पसंद करेगा.Also Read - Ambedkar Jayanti 2021: BSP सुप्रीमो मायावती की मांग, कहा-पलायन कर रहे मजदूरों के रहने खाना और वैक्सीनेशन की मुफ्त व्यवस्था करे सरकार

Also Read - राजीव गांधी के ऑफिस से फ़ोन आया, डीएम की नौकरी छोड़ो और पॉलिटिक्स में आ जाओ, और फिर...

मायावती ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में बसपा और जनता कांग्रेस-छत्तीसगढ़ (जे) के गठबंधन को पूर्ण बहुमत मिलेगा. ऐसे में सरकार बनाने के लिये किसी अन्य दल से समर्थन लेने की जरूरत नहीं होगी. उन्होंने कहा ‘‘हमें और अजित जोगी जी को (पूर्ण बहुमत मिलने का) पूरा भरोसा है. जहां तक भाजपा और कांग्रेस से गठबंधन की बात है तो ऐसा करने के बजाय हम विपक्ष में बैठना पसंद करेंगे.’’ Also Read - अजीत जोगी: इंजीनियर, टीचर, IPS, IAS से लेकर CM तक का सफर, अफसर रहते हुए इंदिरा गांधी की इस बात ने बदल दिए थे इरादे

पीएम मोदी का राहुल और सोनिया पर हमला, मां-बेटा जमानत पर हैं और नोटबंदी पर सवाल उठा रहे हैं

मालूम हो कि जनता कांग्रेस-छत्तीसगढ़ (जे)-बसपा गठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार जोगी ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत में कहा था कि राजनीति में किसी भी सम्भावना से इनकार नहीं किया जा सकता. इसलिये कुछ भी हो सकता है, लेकिन मुझे पूरा विश्वास है कि ऐसी कोई स्थिति नहीं बनेगी. उनसे पूछा गया था कि अगर जनता कांग्रेस-छत्तीसगढ़ (जे)-बसपा गठबंधन छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत हासिल नहीं कर पाता है, तो क्या वह भाजपा का साथ लेंगे.

ये हैं लोकतंत्र के असली सिपाही, नक्‍सलियों ने अंगुली काटने की धमकी दी, फिर भी वोटिंग की

जोगी के इसी बयान पर मायावती ने आज प्रतिक्रिया दी है. बसपा प्रमुख ने कहा कि बसपा- जनता कांग्रेस-छत्तीसगढ़ (जे) गरीबों, किसानों, मजदूरों, दलितों और पिछड़ों को मजबूत करने के लिये काम कर रही हैं जबकि भाजपा और कांग्रेस इन तबकों की हितैषी कतई नहीं हैं. इन वर्गों के मामले में ये दोनों पार्टियां ‘सांपनाथ’ और ‘नागनाथ’ हैं. इनका साथ लेने का सवाल ही नहीं है.

छत्‍तीसगढ़ में पीएम मोदी पर बरसे राहुल, कहा प्रधानमंत्री नहीं जानते देश को एक व्‍यक्ति नहीं, जनता चलाती है

बसपा और जनता कांग्रेस-छत्तीसगढ़ (जे) ने पिछले सितम्बर में छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव गठबंधन करके लड़ने का एलान किया था. प्रदेश की 90 में से 55 सीटों पर जनता कांग्रेस-छत्तीसगढ़ (जे) और 35 सीटों पर बसपा ने अपने प्रत्याशी खड़े किये हैं. गठबंधन के तहत यह भी एलान किया गया है कि अगर बहुमत मिला तो जोगी मुख्यमंत्री होंगे.