रायपुर. छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य नागरिक आपूर्ति निगम में कथित आर्थिक अनियमितता की जांच के लिए बस्तर के पूर्व पुलिस महानिरीक्षक एसआरपी कल्लूरी के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया है. वरिष्ठ अधिकारियों ने आज यहां बताया कि राज्य शासन ने नागरिक आपूर्ति निगम में हुए आर्थिक अनियमितता की जांच के लिए 12 सदस्यीय विशेष जांच दल (SIT) का गठन कर दिया है. अधिकारियों ने बताया कि राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो और ‘‘एंटी करप्शन ब्यूरो’’ के पुलिस महानिरीक्षक एसआरपी कल्लूरी इस दल के प्रभारी होंगे.

राज्य में भूपेश बघेल सरकार ने राज्य नागरिक आपूर्ति निगम में आर्थिक अनियमिताओं की उच्च स्तरीय जांच के लिए विशेष जांच दल (SIT) के गठन का निर्णय लिया था. राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि वर्ष 2015 में ब्यूरो की टीम ने नागरिक आपूर्ति निगम के दफतरों में छापा मारा था. इस दौरान ब्यूरो ने भारी मात्रा में नगद और एक डायरी बरामद किया था. डायरी में कुछ रसूखदार लोगों का नाम था. बाद में इस मामले में ब्यूरो ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के दो अधिकारियों आलोक शुक्ला और अनिल टुटेजा समेत 18 लोगों को आरोपी बनाया था.

अधिकारियों ने बताया कि पिछले दिनों नई सरकार के गठन के बाद आरोपी अधिकारी अनिल टुटेजा ने राज्य सरकार से इस मामले में जांच की मांग की थी. उनकी मांगों को ध्यान में रखकर राज्य सरकार ने ब्यूरो से राय मांगी थी. जिसके आधार पर राज्य सरकार ने इस मामले की एसआईटी से जांच कराने का फैसला किया है. राज्य में सत्ताधारी दल कांग्रेस के मुताबिक यह लगभग 36 हजार करोड़ रुपए का घोटाला है जिसमें कई बड़े लोगों के नाम सामने आ सकते हैं.