राजनांदगांव: एंट्रेंस एग्‍जाम के दौरान नकल रोकने के नाम पर छत्तीसगढ़ में ऐसी सख्‍ती आई है, जिसमें स्टूडेंट्स के फुलस्लीव्स ही काट दिए गए. छत्‍तीसगढ़ में ये मामला राजनांदगांव से सामने आया है. प्रदेश में आयोजित राज्य स्तरीय प्री एग्रीकल्चर टेस्ट (छत्तीसगढ़ प्री एग्रीकल्चर टेस्ट) के दौरान राजनांदगांव के एक स्कूल में नकल रोकने के नाम पर परीक्षार्थी स्टूडेंट्स के फुल स्लीव्स काट दिए गए.

न्‍यूज एजेंसी ANI की खबर के मुताबिक, जिले के कलेक्‍टर ने कहा कि हमें शिकायत मिली है और हम मामले की पर जांच कर रहे हैं. खबर की फोटो में स्टूडेंट्स के फुल स्लीव को काटते हुए परीक्षक दिखाई दे रहे हैं. ये वाकया बीती 31 मई का है.

छत्तीसगढ़ में बीएससी कृषि और उद्यानिकी की करीब 2500 सीटों के लिए प्री एग्रीकल्चर टेस्ट 31 मई को किया गया था. इस साल की प्रवेश परीक्षाओं में 55 हजार छात्र परीक्षा में शामिल हुए. इसके लिए छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल ने प्रदेश में 162 केंद्र बनाए थे. सुरक्षा संबंधी जांच के लिए व्यापम ने छात्रों को परीक्षा के एक घंटे पूर्व परीक्षा केंद्र में उपस्थित रहने कहा गया था. इस साल छत्तीसगढ़ में सबसे अधिक आवदेन पीएटी में ही आए हैं.

बता दें कि कुछ दिन पहले ही बिहार के मुजफ्फरपुर में भी पैरामेडिकल परीक्षा के दौरान छात्राओं के कपड़ों की स्‍लीव्‍स काट दी गईं थी. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. इसके बाद प्रशासन ने मामले की जांच के आदेश दिए थे. (इनपुट- एजेंसी)