नई दिल्ली. छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्यमंत्री टी.एस. सिंहदेव का कहना है कि लोकसभा चुनाव-2019 के नतीजे आने से पहले एग्जिट पोल में जो अटकलें लगाई जा रही हैं, छत्तीसगढ़ में उसके विपरीत परिणाम देखने को मिलेंगे. आम चुनाव के आखिरी चरण का मतदान रविवार को संपन्न होने के बाद विभिन्न मीडिया व एजेंसियों की ओर से जारी एग्जिट पोल में छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को सात से नौ सीटें, जबकि कांग्रेस को दो से चार सीटें दी गई हैं.

एग्जिट पोल के बाद पार्टी संगठन की रिपोर्ट के आधार पर गुणा-भाग में जुटी टीएमसी

पिछले लोकसभा चुनाव 2014 में छत्तीसगढ़ की 11 सीटों में से कांग्रेस को एक और भाजपा को 10 सीटें मिली थीं. उस समय प्रदेश में भाजपा की सरकार थी जबकि इस समय कांग्रेस की सरकार है. सिंहदेव ने सोमवार को कहा कि एग्जिट पोल में जो कयास लगाया जा रहा है चुनाव के परिणाम इससे अलग आएंगे. उन्होंने कहा कि इस चुनाव में राजग और संप्रग दोनों में से किसी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने जा रहा है. अगली सरकार बनाने में दोनों प्रमुख गठबंधनों से असंबद्ध दलों के सहयोग की दरकार होगी.

छत्तीसगढ़ में पिछले साल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 68 सीटों पर जीत दर्ज कर सबको चौंका दिया था. मगर इस साल लोकसभा चुनाव में पार्टी को एग्जिट पोल में कुल 11 सीटों में से महज दो से चार और भाजपा को सात से नौ सीटें मिलने की संभावना है. इस मामले को लेकर पूछे गए सवाल पर टीएस सिंहदेव ने कहा कि प्रदेश में इसके विपरीत परिणाम आएंगे. उन्होंने कहा, “एग्जिट पोल में परिणाम को उलट दीजिए.” उनका मतलब कांग्रेस को सात से नौ सीटें और भाजपा को दो से चार सीटें आ सकती हैं.

एग्जिट पोल के नतीजों से सहमी मायावती, 23 तक लखनऊ में ही रहेंगी

दिसंबर 2018 में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में हार का मुंह देखना पड़ा था. लेकिन सबसे करारी हार छत्तीसगढ़ में हुई थी जहां प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस को 68, भाजपा को 15 और अन्य दलों को सात सीटें मिली थीं.