रायपुर: छत्तीसगढ़ की नक्सल प्रभावित चित्रकोट विधानसभा सीट में हो रहे उपचुनाव के लिए सोमवार सुबह कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान शुरू हो गया. राज्य के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र की इस विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक दीपक बैज को बीते लोकसभा चुनाव में सांसद चुन लिए जाने के बाद से अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित यह सीट रिक्त है.

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि चित्रकोट विधानसभा सीट के लिए सुबह आठ बजे मतदान प्रारंभ हुआ. मतदाता शाम पांच बजे तक अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे.

अधिकारियों ने बताया कि इस मतदान में क्षेत्र के कुल 1,67,911 मतदाता मताधिकार का प्रयोग करेंगे, जिनमें 79,284 पुरूष, 88,626 महिलाएं और एक तृतीय लिंग मतदाता शामिल है.

इस विधानसभा सीट में शांतिपूर्ण मतदान के लिए 229 मतदान केंद्र बनाए गए हैं, जिनमें 213 मतदान केंद्र बस्तर जिले में तथा 16 मतदान केंद्र पड़ोसी सुकमा जिले में है. इन मतदान केंद्रों में 54 अतिसंवेदनशील और 93 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं.

अधिकारियों ने बताया कि क्षेत्र में शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. क्षेत्र में आठ हजार जवानों को तैनात किया गया है जिसमें अर्द्धसैनिक बलों और राज्य के बलों के जवान शामिल हैं. इसके अलावा स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान के लिए ड्रोन कैमरे से भी नजर रखी जा रही है. इस उपचुनाव में इसी महीने की 24 तारीख को मतों की गिनती की जाएगी.

चित्रकोट विधानसभा सीट के लिए छह उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. हालांकि मुख्य मुकाबला सत्ताधारी कांग्रेस और मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के मध्य है.

इस उपचुनाव में कांग्रेस ने बस्तर जिले के जिला अध्यक्ष तथा नए चेहरे राजमन बेंजाम पर भरोसा जताया है. वहीं बीजेपी ने पूर्व विधायक लच्छुराम कश्यप को एक बार फिर चुनाव मैदान में उतारा है.

क्षेत्र के लिए बोड़मा मंडावी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की ओर से, हिडमो राम मंडावी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से और लखेश्वर कवासी अंबेडकराइट पार्टी आफ इंडिया की ओर से चुनाव मैदान में है. वहीं रितिका कर्मा निर्दलीय उम्मीदवार हैं.

साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में इस विधानसभा सीट में भाजपा के लच्छुराम कश्यप कांग्रेस के दीपक बैज से 17770 मतों से चुनाव हार गए थे. उस समय विधानसभा चुनाव में राज्य की 90 सीटों में से 68 सीटों पर कांग्रेस और 15 सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की थी. वहीं, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने पांच सीटों पर और बहुजन समाज पार्टी ने दो सीटों पर जीत हासिल की थी.