रायपुर. भारत निर्वाचन आयोग के निर्धारित कार्यक्रम अनुसार, वीवीपैट का प्रदर्शन और प्रचार-प्रसार सभी मतदान केंद्र, हाट बाजार, सिनेमा हॉल और शहर में मोबाइल वैन के जरिए किए जाने की योजना है. ईवीएम और वीवीपैट मशीन की विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए इसकी जांच अधिकारियों के समक्ष की जाएगी. छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने बीते दिनों बताया कि मतदाता सूची के द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के तहत मतदाता सूचियों का प्रकाशन 31 जुलाई को किया गया. मतदाता पूरक सूची के प्रकाशन होने के बाद किसी भी मतदाता को किसी भी प्रकार की दावा आपत्ति हो तो अपना आवेदन 21 अगस्त तक निर्वाचन कार्यालय में कार्यालयीन समय में प्रस्तुत कर सकते हैं. प्राप्त आवेदनों का निराकरण 20 सितंबर तक किया जाएगा.Also Read - दिल्ली चुनाव में नफरत भरे भाषणों पर सजा नहीं देने के पूर्व CEC के आरोपों का आयोग ने दिया जवाब

Also Read - शाहीन बाग, जामिया नगर में गोलीबारी की घटना के बाद चुनाव आयोग ने डीसीपी चिन्मय बिस्वाल को हटाया

निर्धारित कार्यक्रम अनुसार, 26 सितंबर से पहले मतदाता सूची का मुद्रण किया जाएगा. मुद्रण के बाद मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 27 सितंबर को किया जाएगा. इसके अलावा ऐसे मतदाता, जिसकी आयु 18 वर्ष हो गई है या फिर मतदाता सूची में जिसका नाम पंजीकृत न हो, ऐसे मतदाताओं का मतदाता सूची में पंजीयन किया जाना है. आयोग के पोर्टल पर अब मतदाता सूची संबंधी सभी प्रारूपों में प्रासंगिक दस्तावेजों के साथ ऑनलाइन आवेदन करने की सुविधा भी उपलब्ध है. Also Read - Delhi Assembly Election 2020: दिल्ली CEO ने किया शाहीन बाग का दौरा, कहा चुनावी गतिविधियों वाली जगह कोई बाधा नहीं

प्रदेश में 18179435 मतदाता हैं, जिनमें 9146099 पुरुष, 9032505 महिला और तृतीय समुदाय के 831 है. वहीं राज्य में सर्विस वोटर की संख्या 11980 और ओवरसीज मतदाता की संख्या 1 है. प्रदेश में ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनें निर्वाचन कार्यों में उपयोग की जाएगी. वर्तमान में प्रदेश को 35150 बैले यूनिट, 29300 कंट्रोल यूनिट मिली है जिनका प्रथम स्तर जांच की जा चुकी है. वहीं राज्य में चुनाव के लिए 30435 वीवीपीएटी मशीन लगेंगे, जिनमें दुर्ग, महासमुंद, बालोद, रायपुर, बलौदाबाजार तक ये मशीनें पहुंच गई हैं और बेमेतरा व कांकेर जिलों में पहुंचने वाली है.

छत्तीसगढ़ की खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com