नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ के निवर्तमान मुख्यमंत्री रमन सिंह ने केंद्र की राजनीति में जाने के सवाल पर कहा है कि वह राज्य में ही हैं और यहीं रहेंगे. सिंह से संवाददाता सम्मेलन में जब पूछा गया कि क्या चुनाव में हार के बाद वह केंद्र की राजनीति में जाएंगे तब उन्होंने कहा, ‘मै यहीं हूं और यहीं रहूंगा.’ उन्होंने कहा, ‘अब मै यहां लगातार आता रहूंगा अपनी नई भूमिका में. मैं प्रेस के साथ नई भूमिका में ज्यादा मिलूंगा क्योंकि पहले मुख्यमंत्री के पद में सीमाओं से बंधा था पर अब मैं भाजपा कार्यालय में आउंगा, बैठूंगा और कार्यकर्ताओं से मिलूंगा. मीडिया के साथियों के लिए भी मैं भाजपा कार्यालय में उपलब्ध रहूंगा.

मेक इन इंडिया से यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को उन्हीं के गढ़ में चुनौती देंगे पीएम नरेंद्र मोदी

चुनावी घोषणा पत्र में कांग्रेस द्वारा किए गए वादों के सवाल पर उन्होंने कहा,‘ इसके लिए मैं 10 दिनों तक इंतजार करूंगा, फिर मैं आपके पास आउंगा.’ राज्य में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने धान के लिए 2500 रुपए समर्थन मूल्य और सरकार बनने के 10 दिनों के भीतर किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा की है. राज्य में कांग्रेस ने 90 में से 68 सीट में जीत हासिल की है. सिंह ने भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में राफेल मामले में संवाददाता सम्मेलन मे कहा कि एक झूठ के आधार पर प्रधानमंत्री की छवि की धूमिल करने का प्रयास किया गया है. इसलिए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए.

मध्य प्रदेश और राजस्थान को मिले मुख्यमंत्री, छत्तीसगढ़ पर फैसला आज

उन्होंने कहा कि इसका चुनाव पर असर हुआ है या नहीं हुआ है इस प्रकार का आकलन तो नहीं किया गया है. लेकिन इस तरह की राजनीतिक भाषा यदि हिंदुस्तान में बड़े पद में बैठे हुए व्यक्ति करेंगे तब लोगों का विश्वास पूरी तरह से ऐसे दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष से उठ जाएगा. उन्होंने कहा कि सर्वोच्च अदालत द्वारा राफेल सौदा मामले पर दिए गए फैसले का भारतीय जनता पार्टी स्वागत करती है. न्यायालय के इस निर्णय से फिर सत्य की जीत हुई है.

नेपाल को मिली पहली आधुनिक रेल लाइन, जल्द शुरू होगा जयनगर-जनकपुर ट्रेन का सफर

मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पीठ ने राफेल सौदे पर सवाल उठाने वाली तमाम याचिकाओं को खारिज कर दिया है. न्यायालय ने रिकॉर्ड की विस्तार से जांच कर इस मामले में खरीद प्रक्रिया को चुनौती देने वाली सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है. सिंह ने कहा कि न्यायालय ने इस विमान की जरूरत और गुणवत्ता को भी मान्यता देते हुए इस सौदे को सभी संदेहों से बाहर माना है.

मप्र में कमलनाथ चलाएंगे दागी और करोड़पतियों की सरकार! कांग्रेस के आधे से ज्यादा विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामले

जहाज की कीमत संबंधित आशंकाओं को भी न्यायालय ने निराधार पाया है और कहा है कि इस मुद्दे पर जांच की कोई जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि हाल में संपन्न हुए चुनाव में सभी राज्यों में कांग्रेस अध्यक्ष समेत सभी नेतागण लगातार राफेल पर दुष्प्रचार कर रहे थे. देखा गया है किस तरह कांग्रेस झूठ बोल कर जनता को गुमराह कर रही थी.

(इनपुट-भाषा)