बांग्‍लादेश के घरेलू टूर्नामेंट द बंगाबंधू टी20 कप (The Bangabandhu T20 Cup) में साथी खिलाड़ी को मारने के लिए हाथ उठाने वाले विकेटकीपर बल्‍लेबाज मुशफिकुर रहीम (Mushfiqur Rahim) पर बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) का डंडा चला है. बोर्ड ने इस आचरण को पूरी तरह से गलत मानते हुए रहीम पर कार्रवाई की. रहीम की 25 प्रतिशत मैच फीस काटने के साथ-सा उन्‍हें चेतावनी देते हुए एक डिमेरिट प्‍वाइंट दिया गया है. Also Read - AIIMS में सफाई कर्मी को लगाया गया कोरोना का पहला टीका, मौके पर मौजूद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बजाई ताली

बीसीबी की तरफ से जारी किए गए बयान में कहा गया, “बीसीबी के कोड ऑफ कंडक्‍ट का उल्‍लंघन करने के लिए मुशफिकुर रहीम (Mushfiqur Rahim) की 25 प्रतिशत मैच फीस काटी जा रही है. उन्‍होंने साथी खिलाड़ी के खिलाफ अपमानजनक व्‍यवहार किया है.”मुशफिकुर रहीम (Mushfiqur Rahim) को अगर टूर्नामेंट के दौरान चार या इससे अधिक डिमेरिट प्‍वाइंट मिलते हैं तो उन्हें इस टूर्नामेंट से बैन किया जा सकता है. Also Read - KVS Recruitment 2021: KVS में डिप्टी कमिशनर के पदों पर निकली वैकेंसी, जल्द करें आवेदन, 2 लाख होगी सैलरी 

ये वाक्‍या द बंगाबंधू टी20 कप टूर्नामेंट (The Bangabandhu T20 Cup) के दौरान सोमवार को बेक्सिमको ढाका और फॉर्च्यून बारीशल (Beximco Dhaka vs Fortune Barishal) के बीच मैच के दौरान हुआ. दोनों  की टीमें एलिमिनेटर में भिड़ रही थीं. मुश्फिकुर ढाका के कप्तान भी हैं और उनकी टीम ने यहां 9 रन से जीत दर्ज की. लेकिन टीम की जीत से ज्यादा यहां फील्डिंग के दौरान कप्तान का अपनी ही टीम के साथी खिलाड़ी से हुआ झगड़ा ज्यादा सुर्खियों में है. Also Read - Bigg Boss 14: पॉर्न स्टार बनना चाहती थीं राखी सावंत, इस वजह से सबके सामने किया था ऐलान

लक्ष्‍य का बचाव करने के दौरान 17वां ओवर प्रगति पर था, तभी कप्तान रहीम (Mushfiqur Rahim) अपने साथी खिलाड़ी नसुम अहमद (Nasum Ahmed) से एक कैच को लेकर भिड़ पड़े. बारीशल की टीम को 19 गेंदों में जीत के लिए 45 रनों की दरकार थी.

वैसे तो रहीम ने अपने खिलाड़ी को कैच पकड़ने की कॉल दी थी कि कैच वह ही लपकेंगे लेकिन कैच नसुम का था तो वह ही इसे लपकने के लिए जा रहे थे. जब रहीम ने कैच लपककर नसुम की ओर देखा तो वह गुस्से से आग बबूला हो गए. उन्होंने कैच लपकते ही गुस्सा दिखाते हुए नसुम को गेंद से मारने का इशारा किया और काफी देर तक गुस्से से ही चिल्लाते रहे. टीम के बाकी खिलाड़ियों ने उन्हें शांत कराने की कोशिश की.