भारतीय क्रिकेट के दिग्गज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने हाल ही में ये बयान दिया था कि केवल डे-नाइट फॉर्मेट में मैच करा टेस्ट क्रिकेट को पूरी तरह से नहीं बचाया जा सकता है। अब एक और भारतीय क्रिकेटर ने द्रविड़ की बात से सहमति जताई है। सीनियर स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने अपने साथी खिलाड़ी की हां में हां मिलाकर कहा है कि डे-नाइट फॉर्मेट से टेस्ट क्रिकेट के लोकप्रियता बढ़ने की कोई गारंटी नहीं है।Also Read - IND vs SL- Rahul Chahar भारत के लिए मैच विनर साबित होंगे, उनका कॉन्फिडेंस लाजवाब: Yuzvendra Chahal

Also Read - Highlights, India vs Sri Lanka, 1st T20I: भुवी-चाहर की धांसू गेंदबाजी से जीता भारत, सीरीज में 1-0 से बढ़त

मंगलवार को ऑस्ट्रेलियाई उच्चायोग में हरभजन ने पीटीआई से कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि गुलाबी गेंद के मैच भारत में मैदानों पर काफी दर्शकों को खींचकर लाएंगे। आपको कुछ और करना होगा।” Also Read - IND vs SL: Hardik Pandya का फ्लॉप शो जारी, टि्वटर पर भड़के फैन्स, बोले- गरीबों का बेन स्टोक्स

पंजाब के इस क्रिकेटर ने समस्या का हल भी खुद ही सुझाया और छोटे शहरों में मैच आयोजित करने की बात कही। हरभजन ने आगे कहा, “संभवत: टेस्ट क्रिकेट को छोटे केंद्रों पर ले जाना होगा जहां लोगों ने अपने शीर्ष खिलाड़ियों को खेलते हुए नहीं देखा है।”

केवल डे-नाइट मैच भारत में टेस्ट क्रिकेट को पूरी तरह से नहीं बचा पाएगा: राहुल द्रविड़

उन्होंने कहा, “उदाहरण के लिए मोहाली में नहीं खेला जाए, इसकी जगह मैच अमृतसर में कराया जाए, कोई भी फॉर्मेट हो दर्शक आएंगे। जैसा इंदौर (बांग्लादेश के खिलाफ पहले टेस्ट का वेन्यू) में मैदान भरा हुआ था।’’