आज से ठीक 30 साल पहले भारत की ओर से 16 साल के एक किशोर ने क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप या यूं कहें की टेस्ट क्रिकेट में कदम रखा था. 15 नवंबर, 1989 को चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान (INDvPAK) के खिलाफ कराची में खेले गए उस मैच में इस बच्चे ने पहली पारी में महज 15 रन बनाए. पाकिस्तान के तेज गेंदबाज वकार यूनिस (Waqar Younis) ने उसे बोल्ड कर दिया. 17 वर्षीय वकार का भी ये डेब्यू टेस्ट था. दूसरी पारी में इस युवा को बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला.


इसके बाद मुंबई के इस खिलाड़ी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और रोज नया कीर्तिमान बनाता चला गया जिसे बाद में फैंस ‘क्रिकेट के भगवान’ कहने लगे. जी हां, हम बात कर रहे है मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर (Master Blaster Sachin Tendulkar) की. जिन्होंने अपने खेल से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया.

मुंबई टीम में लौटे पृथ्वी शॉ, सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगे

इसे संयोग ही कहा जाएगा कि 2013 में सचिन (Sachin) ने अपने टेस्ट क्रिकेट की आखिरी पारी 15 नवंबर को ही खेली थी. वेस्टइंडीज के खिलाफ 14 नवंबर को शुरू हुए मुंबई टेस्ट के दूसरे दिन सचिन अपने घरेलू मैदान पर नरसिंह देवनारायण (Narsingh Deonarine) की गेंद पर आउट होने से पहले 74 रन बना चुके थे.

डेब्यू टेस्ट में बल्लेबाजी के लिए छठे नंबर पर उतरे थे सचिन

पहले टेस्ट मैच में सचिन को छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया. भारतीय टीम की कप्तानी कृष्णमाचारी श्रीकांत (K Srikkanth) कर रहे थे. पहली पारी में पाकिस्तान ने 409 बनाए थे. एक समय भारतीय टीम 41 के स्कोर पर 4 विकेट गंवा चुकी थी. मनोज प्रभाकर के विकेट गिरने के बाद उदीयमान सचिन की बारी आई.

सचिन ने 24 गेंदों का सामना किया और दो चौकों की मदद से 15 रन बनाए. उन्होंने मो. अजहरुद्दीन के साथ 32 रन की साझेदारी की. भारत ने पहली पारी में 262 रन बनाए.

राहुल द्रविड़ के खिलाफ हुई हितों के टकराव की शिकायत खारिज

पाकिस्तान ने दूसरी पारी 305/5 के स्कोर पर घोषित कर दी. भारत को 453 रन का लक्ष्य मिला. भारतीय बल्लेबाजों ने तीन विकेट पर 303 रन बनाकर इस टेस्ट को ड्रॉ करा लिया. सात विकेट लेने वाले कपिल देव मैन ऑफ द मैच रहे.

24 साल का क्रिकेट करियर रहा तेंदुलकर का

24 साल के लंबे करियर में रिकॉर्डों के बादशाह तेंदुलकर (Tendulkar) ने 200 टेस्ट मैचों में 53.78 की औसत से कुल 15, 921 रन बनाए जिसमें 51 शतक शामिल है. तेंदुलकर ने 463 वनडे में 44.83 की औसत से 49 शतकों के साथ 18, 426 रन बनाए.

संक्षिप्त स्कोर : 

पाकिस्तान : पहली पारी 409 (शोएब मोहम्मद 67, जावेद मियांदाद 78, इमरान खान 109*; कपिल देव 4/69, मनोज प्रभाकर 5/104). दूसरी पारी 5 विकेट पर 305 पर घोषित (शोएब मोहम्मद 78, सलीम मलिक 102*; कपिल देव 3/82).

भारत: पहली पारी 262 पर ऑलआउट (कपिल देव 55, किरण मोरे 58*, वसीम अकरम 4/83, वकार यूनिस 4/80).

दूसरी पारी: 3 विकेट पर 303 रन (नवजोत सिंह सिद्धू 85, संजय मांजरेकर 113*).