सैय्यद मुश्‍ताक अली ट्रॉफी के बेहद रोमांचक फाइनल मुकाबले में कर्नाटक ने एक रन से जीत दर्ज कर खिताब पर कब्‍जा किया. 181 रनों के लक्ष्‍य का पीछा कर रही तमिलनाडु की टीम को आखिरी दो ओवरों में जीत के लिए 25 रन की दरकार थी. मैच किसी भी और जा सकता था.

पढ़ें:- सौरव गांगुली ने एमएसके प्रसाद की अध्‍यक्षता वाली चयन समिति की कर दी छुट्टी

विजय शंकर और मुर्गन अश्विन ने एक एक चौका जड़कर 19वें ओवर में 12 रन बटोरे. अब आखिरी ओवर में तमिलनाडु को जीत के लिए टीम को 13 रन चाहिए थे. कृष्‍णप्‍पा गौतम के ओवर की पहली दो गेंदों पर चौका जड़कर जीत को आसान बना दिया था क्‍योंकि अब चार गेंदों पर पांच रन चाहिए थे. तीसरी गेंद फुलटॉस थी, जिसपर कोई रन नहीं आया.

चौथी गेंद पर अश्विन ने सिंगल लिया, जबकि पांचवीं गेंद पर दूसरा रन चुराने के प्रयास में विजय शंकर रनआउट हो गए. अब आखिरी बॉल में जीत के लिए तीन और मैच ड्रॉ करने के लिए दो रन चाहिए थे. मुर्गन अश्विन इस गेंद पर केवल एक रन ही बना पाए. इस तरह कर्नाटक ने मैच में एक रन से जीत दर्ज की.

पढ़ें:- IPL 2020 Auction के दौरान RCB की इन पांच विदेशी खिलाड़ियों पर रहेगी नजर

मैच में तमिलनाडु ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया. कर्नाटक के कप्‍तान मनीष पांडे ने 45 गेंद पर 60 रन बनाए. इसके अलावा रोहन कदम 35(28), देवदत्त पडिकल 32(23) और केएल राहुल 22(15) की पारियों के दम पर कर्नाटक ने निर्धारित 20 ओवरों में 180/5 रन बनाए. रविचंद्रन अश्विन और मुर्गन अश्विन ने दो-दो विकेट लिए.

लक्ष्‍य का पीछा करने के दौरान विजय शंकर 44(27) और बाबा अपराजित 40(25) ने मध्‍यक्रम में अहम पारियां खेलकर मैच में जान डाल दी. हालांकि रोमांचक मैच के बावजूद वो जीत दर्ज करने में विफल रहे.