farmer leaders, Central govt, farm laws, farmers protest, kisan andolan, Delhi : दिल्‍ली में कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच आज शुक्रवार को 11वें राउंड की बातचीत शुरू हो गई है. ताजा जानकारी के मुताबिक कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, रेल और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, राज्य वाणिज्य मंत्री सोम प्रकाश और विभिन्न किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के मध्य कृषि कानूनों को लेकर चर्चा जारी है. Also Read - Kisan Andolan: आंदोलन तेज करेंगे किसान- SKM का ऐलान, चुनावी राज्यों में BJP का करेंगे विरोध और 12 मार्च को...

वार्ता में सरकार की तरफ से तोमर के अलावा रेलवे, वाणिज्य और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्य मंत्री एवं पंजाब से सांसद सोमप्रकाश हिस्सा ले रहे हैं.

बता दें कि प्रदर्शनकारी किसान संगठनों के नेताओं के साथ 11 वें दौर की महत्वपूर्ण वार्ता के एक दिन पहले कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बृहस्पतिवार रात भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी.

इस मुलाकात से पहले, किसान संगठनों ने तीन कृषि कानूनों के क्रियान्वयन को डेढ़ साल तक स्थगित रखने और समाधान का रास्ता निकालने के लिए एक समिति के गठन संबंधी केन्द्र सरकार के प्रस्ताव को खारिज कर दिया, संयुक्त किसान मोर्चा ने एक बयान जारी कर यह जानकारी दी थी, हालांकि, कुछ किसान नेताओं ने कहा कि प्रस्ताव पर अभी अंतिम निर्णय किया जाना बाकी है और सरकार के साथ शुक्रवार को बैठक के बाद अगले कदम पर फैसला होगा.

किसान नेता दर्शन पाल की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ”संयुक्त किसान मोर्चा की आम सभा में सरकार द्वारा रखे गए प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया गया’.

संयुक्त किसान मोर्चा के बयान में कहा गया, ”आम सभा में तीन केंद्रीय कृषि कानूनों को पूरी तरह रद्द करने और सभी किसानों के लिए सभी फसलों पर लाभदायक न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए एक कानून बनाने की बात, इस आंदोलन की मुख्य मांगों के रूप में दोहराई गई.”