नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस साइबर प्रकोष्ठ ने एक प्रवासी भारतीय (NRI) के खाते से धन निकालने की कोशिश करने के आरोप में एचडीएफसी बैंक के तीन कर्मियों समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया है. यह कार्रवाई तब हुई, जब एचडीएफसी बैंक ने एनआरआई के खाते से इंटरनेट बैंकिंग सेवा के जरिए अनधिकृत कोशिश के अलर्ट को संज्ञान में लेकर तत्‍काल कार्रवाई की, जिससे तीन बैंककर्मियों समेत 12 लोग गिरफ्तार किए जा सके. पुलिस ने दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में 20 स्थानों पर छापेमारी की और बैंक के तीन कर्मियों समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया है. हालाकि अभी मास्‍टरमाइंड फरार है.Also Read - Omicron Cases Update: अब महाराष्‍ट्र में मिला ओमीक्रोन का नया केस, देश में अब तक कुल 4 केस

पुलिस ने बताया कि यह बात बैंक के संज्ञान में आई कि इंटरनेट बैंकिंग सेवा का इस्तेमाल करके एक एनआरआई के खाते तक पहुंचने और धोखाधड़ी से प्राप्त एक चैक बुक के जरिए धन निकालने की कई बार अनधिकृत कोशिश की गईं, जिसके बाद बैंक ने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई. Also Read - 'SEX' शब्द वाले वाहन पंजीकरण संख्या पर मचा बवाल, दिल्ली महिला आयोग का परिवहन विभाग को नोटिस

Also Read - सुहागरात पर दूल्हे ने दोस्तों को सौंप दी अपनी नई नवेली दुल्हन, नशीली दवा खिलाकर किया गैंगरेप

इंटरनेट बैंकिग सेवा तक पहुंच बनाने की 66 बार कोशिश की
बदमाशों ने बैंक खाते से जुड़े अमेरिका आधारित एक मोबाइल फोन नंबर को इससे मिलते-जुलते भारतीय नंबर से बदलने की भी कोशिश की. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि एचडीएफसी बैंक ने आरोप लगाया कि खाते की इंटरनेट बैंकिग सेवा तक पहुंच बनाने की 66 बार कोशिश की गई.

दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में 20 स्थानों पर छापेमारी
पुलिस उपायुक्त (साइबर प्रकोष्ठ) के पी एस मल्होत्रा ने बताया कि जांच के दौरान पुलिस ने दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में 20 स्थानों पर छापेमारी की और बैंक के तीन कर्मियों समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया. ये बैंककर्मी चैक बुक जारी करने, मोबाइल फोन नंबर के अपडेट और खाते पर लगी रोक हटाने में शामिल थे. पुलिस उपायुक्त (साइबर अपराध) के. पी. एस. मल्होत्रा ने कहा, “आरोपी ने केवाईसी में पंजीकृत खाताधारक के यूएसए के मोबाइल नंबर के समान एक भारतीय मोबाइल फोन नंबर हासिल किया.”

इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से खाते तक पहुंचने के लिए 66 बार कोशिश की
एचडीएफसी बैंक ने स्पेशल सेल की साइबर क्राइम यूनिट में शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया था कि एक एनआरआई बैंक खाते में कई अनधिकृत इंटरनेट बैंकिंग प्रयास देखे गए हैं. बैंक ने आगे आरोप लगाया कि इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से खाते तक पहुंचने के लिए कुल 66 बार प्रयास किए गए. इस शिकायत के आधार पर पुलिस ने एक टीम गठित की, जिसे तकनीकी फुटप्रिंट्स और ह्यूमन इंटेलिजेंस के आधार पर दोषियों की पहचान करने का काम सौंपा गया था.

महिला समेत एचडीएफसी बैंक के तीन कर्मचारियों ने जारी की थी चेक बुक  
दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में 20 स्थानों पर छापेमारी की गई, जिसमें एचडीएफसी बैंक के तीन कर्मचारियों सहित 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया. एक महिला समेत एचडीएफसी बैंक के तीन आरोपित कर्मचारी चेक बुक जारी करने, मोबाइल फोन नंबर अपडेट करने और खाते से हेट फ्रीज हटाने में शामिल थे.

एचडीएफसी बैंक के तीन कर्मचारियों सहित 12 आरोपियों की पहचान
आरोपियों की पहचान गाजियाबाद निवासी आर. जायसवाल, गाजियाबाद निवासी जी. शर्मा, ग्रेटर नोएडा निवासी ए. कुमार, हापुड़ निवासी ए. तोमर, गाजियाबाद निवासी एच. यादव, बुलंदशहर निवासी एस. एल. सिंह, गुरुग्राम निवासी एस. तंवर, झांसी निवासी एन. के. जाटव और यूपी के बागपत निवासी एस. सिंह के रूप में हुई है. आरोपी एचडीएफसी कर्मचारियों में रायबरेली के डी. चौरसिया, गोंडा के ए. सिंह और एक महिला कर्मचारी शामिल हैं.

निष्क्रिय एनआरआई खाता से चेकबुक जारी की, मोबाइल नंबर अपडेट करने की कोशिश की
पूछताछ में पता चला कि मुख्य मास्टरमाइंड को सूचना मिली थी कि यह एनआरआई खाता निष्क्रिय है और उसमें काफी रकम है. एचडीएफसी की एक महिला कर्मचारी की मदद से उन्होंने इस खाते की चेक बुक जारी की. पता चला है कि डी. चौरसिया और ए. सिंह (दोनों एचडीएफसी बैंक के कर्मचारी) ने केवाईसी से जुड़े फोन नंबर को अपडेट करने का प्रयास किया था. अन्य सहयोगियों ने पैसे के हस्तांतरण के उद्देश्य से खाते की इंटरनेट बैंकिंग में लॉगिन करने का प्रयास भी किया था. डीसीपी मल्होत्रा ने कहा कि पूरी साजिश
का पता लगाने के लिए अभी जांच जारी है.

निष्क्रिय खाता में बड़ी रकम थी
पुलिस ने बताया कि बदमाशों को किसी तरह यह पता लगा कि यह खाता निष्क्रिय था और इसमें बड़ी रकम थी, जिसके बाद उन्होंने इसके बारे में जानकारी एकत्र करना आरंभ कर दिया। समूह ने बैंक की एक कर्मी को चैक बुक जारी करने और खाते पर लगी रोक हटाने के लिए 10 लाख रुपए देने का वादा किया. उन्होंने उससे 15 लाख रुपए कk बीमा खरीदने का भी वादा किया.

पहले भी इस खाते से धन निकालने की कोशिश की गई थी
पुलिस ने बताया कि पहले भी इस खाते से धन निकालने की कोशिश की गई थी और इस संबंध में गाजियाबाद एवं मोहाली में दो मामले दर्ज किए गए थे. उन्होंने बताया कि इस संबंध में छापेमारी जारी है.

प्रणाली ने कुछ खातों से लेन-देन के अनधिकृत और संदिग्ध प्रयासों का पता लगाया
एचडीएफसी बैंक ने एक बयान में कहा, ”हमारी प्रणाली ने कुछ खातों से लेन-देन के अनधिकृत और संदिग्ध प्रयासों का पता लगाया. हमने आगे आवश्यक जांच के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों से इस संबंध में शिकायत की.”

बैंककर्मियों को निलंबित किया गया
बयान में बताया गया कि प्राथमिकी के आधार पर पुलिस ने बैंक कर्मियों समेत कुछ संदिग्धों को गिरफ्तार कर लिया है. बैंक ने कहा, हमने जांच का परिणाम लंबित रहने तक बैंक कर्मियों को निलंबित कर दिया है.

(इनपुट भाषा)