नई दिल्ली: भाजपा शासित नगर निगमों में बीजेपी ने अपने तीन पार्षदों को पार्टी से निष्काषित कर दिया है. साथ ही कुछ और पार्षदों पर भी गाज गिर सकती है. भ्रष्टाचार की शिकायतों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए दिल्ली इकाई के अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने तीन पार्षदों को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया और कहा कि भविष्य में कुछ और पार्षदों को इसका सामना करना पड़ेगा. गुप्ता ने कहा, “आने वाले हफ्तों में और अधिक पार्षदों और नगर निगम के अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.”Also Read - PM मोदी बोले- इन लोगों की पहचान समाजवादी नहीं, परिवारवादी की बन गई, सिर्फ अपने परिवार का भला किया

इससे पहले दिन में, भाजपा ने तीन पार्षदों – रजनी बबलू पांडे (नया अशोक नगर) और पूजा मदान (मुखर्जी नगर) और संजय ठाकुर (सैद-उल-अजैब) को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया था. पिछले साल अगस्त में, आम आदमी पार्टी (आप) ने आरोप लगाया था कि सत्तारूढ़ भाजपा के न्यू अशोक नगर पार्षद के बहनोई ने इलाके में अपने घर बनाने वाले लोगों से पैसे वसूले. Also Read - Punjab Polls: कांग्रेस से जुदा हुईं अमरिंदर की राहें! पंजाब के पूर्व CM का नई पार्टी बनाने का ऐलान; BJP से इस 'शर्त' पर गठबंधन

इस साल की शुरूआत में आप ने आरोप लगाया था कि संजय ठाकुर बिल्डरों के साथ सांठगांठ कर रहा है और जबरन दूसरों से पैसे मांगता है. भगवा पार्टी के एक नेता ने कहा- भाजपा प्रदेश नेतृत्व को पूजा मदान के खिलाफ कई शिकायतें मिली हैं. गुप्ता ने कहा कि बार-बार चेतावनियों के बावजूद ये पार्षद अपने तरीके को सुधारने में विफल रहे जिससे उन्हें कार्रवाई करने के लिए मजबूर होना पड़ा. उन्होंने कहा, ” इनके खिलाफ शिकायत मिलने के बाद हमने अपने स्रोतों से क्रॉस-चेक और सत्यापित किया. हमने उन्हें उनके भ्रष्ट व्यवहार को ठीक करने के लिए भी चेतावनी दी, लेकिन उन्होंने निर्देशों का पालन नहीं किया. उन्हें तत्काल प्रभाव से 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया जाता है.” Also Read - कैप्‍टन अमरिंदर सिंह जल्‍द अपनी पार्टी की घोषणा करेंगे, BJP समेत इन दलों से कर सकते हैं गठबंधन

गुप्ता ने बताया कि भाजपा जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम करती है और भ्रष्टाचार को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. गुप्ता ने चेतावनी देते हुए कहा, “सभी पार्षद ईमानदारी से जनसेवा करें. अगर इस मामले में कोई ढिलाई बरती गई या कोई भ्रष्टाचार पाया गया तो सख्त कार्रवाई की जाएगी.”