Covid-19, Delhi, coronavirus, Oxygen, News: देश की राजधानी में कोरोना संक्रमण का कहर से दिल्‍ली जारी है. कल रविवार को कोरोना वायरस के संक्रमण से पिछले 24 घंटे में 350 लोगों की मौत हो गई, जबकि 22,900 से अधिक मामले सामने आए है. ऑक्‍सीजन की कमी से जूझ रही दिल्‍ली के लिए राहत की बात यह है कि आज सोमवार की रात 70 टन ऑक्‍सीजन यहां पहुंच जाएगी. 70 टन ऑक्सीजन के चार टैंकर को लेकर पहली ऑक्सीजन एक्सप्रेस रविवार रात को रायगढ़ के जिंदल इस्पात संयंत्र से रवाना हुई है, जो सोमवार रात को दिल्ली पहुंचेगी.Also Read - दिल्लीः वंदे मातरम को राष्ट्रगान के समान दर्जा की उठी मांग, भाजपा नेता ने हाई कोर्ट में दाखिल की याचिका

वही, दिल्‍ली में अस्पतालों में ऑक्सीजन की बढ़ती मांग के मद्देनजर बीच पीएम केयर्स फंड से 8 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित किए जा रहे हैं. एक संयंत्र स्थापित किया गया था, जबकि 4 अन्य संयंत्र 30 अप्रैल तक स्थापित होने की उम्मीद है. शेष तीन को भी जल्‍द स्‍थापित किया जाएगा. Also Read - दिल्ली: महिला ने कॉन्ट्रैक्ट किलर से करवाई पति की हत्या, हैरान कर देने वाली है वजह

पहली ऑक्सीजन एक्सप्रेस चार टैंकरों में 70 टन ऑक्सीजन भरकर राष्ट्रीय राजधानी में आज रात पहुंच जाएगी. यह एक्सप्रेस रायगढ़ स्थित जिंदल स्टील वर्क से ऑक्सीजन लेकर दिल्ली छावनी में आज रात को पहुंचने वाली है. बता दें कि कई इलाकों में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी की वजह से ऑक्सीजन की बढ़ी मांग को पूरा करने के लिए रेलवे ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाने का फैसला किया है. Also Read - हफ्ते में सिर्फ 3 दिन जाना होगा ऑफिस, 8 फीसदी बढ़ेगी सैलरी; जानिए - कौन सी कंपनी दे रही है यह सुविधा

कोरोना संक्रमण से दिल्ली में 350 लोगों की मौत, 22,900 से अधिक मामले सामने आए
नदिल्ली में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 22,933 नए मामले सामने आए और 350 और लोगों की इस घातक बीमारी से मौत हो गई. दिल्‍ली में पिछले 10 दिन सबसे कम केस आए हैं, लेकिन पॉजिविटि रेट में कमी नहीं आई. राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण की दर 30.21 प्रतिशत है. स्वास्थ्य संबंधी सरकारी बुलेटिन के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 10,27,715 हो गए है और कुल मृतक संख्या बढ़कर 14,248 हो गई है. दिल्ली में उपचाराधीन लोगों की संख्या भी बढ़कर 94,592 हो गई है. बुलेटिन के अनुसार, पिछले 24 घंटे में 21,071 मरीज ठीक हुए.

ऑक्‍सीजन की कमी को लेकर केजरीवाल का बड़ा बयान
कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने रविवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी को उसकी आवश्यकता से काफी कम चिकित्सीय ऑक्सीजन प्राप्त हुई हैदिल्ली को रोजाना 700 मिट्रिक टन ऑक्सीजन की आवश्यकता है. इस मुद्दे पर जहां केंद्र और शहर की सरकार जुबानी जंग में उलझी है, वहीं शहर के अस्पतालों, खासकर निजी अस्पतालों को कोविड के गंभीर मरीजों के लिए चिकित्सीय ऑक्सीजन की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है.

पूरे कोटे का ऑक्‍सीजन नहीं मिल रहा है
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद रविवार को कहा, ”केंद्र सरकार ने दिल्ली का (ऑक्सीजन) कोटा प्रतिदिन 480 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 490 मीट्रिक टन कर दिया है. लेकिन हमें अभी पूरा कोटा नहीं मिला है. फिलहाल, हमें रोजाना 330-335 मीट्रिक टन की आपूर्ति मिल रही है.” मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार को केंद्र से बहुत समर्थन मिल रहा है और दोनों ऑक्सीजन आपूर्ति की समस्या को हल करने के लिए उचित तरीके से समन्वय कर रहे हैं. केजरीवाल ने शनिवार को देश के राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर ऑक्सीजन और टैंकरों से दिल्ली की मदद करने का आग्रह भी किया था.

दिल्ली में पीएम केयर्स कोष से 8 ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित किए जा रहे
देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों और इसके मद्देनजर अस्पतालों में ऑक्सीजन की बढ़ती मांग के बीच प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपात राहत कोष (पीएम केयर्स) से दिल्ली में आठ ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित किए जा रहे हैं. इससे 14.4 मिट्रिक टन चिकित्सीय ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ेगी. केंद्र सरकार के सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी. सूत्रों ने बताया कि 17 मार्च को कौशिक एन्क्लेव के बुराड़ी अस्पताल में एक संयंत्र स्थापित किया गया था, जबकि चार अन्य संयंत्र 30 अप्रैल तक स्थापित होने की उम्मीद है, जिनमें दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल, लोक नायक अस्पताल, बाबा साहेब आम्बेडकर अस्पताल और दीप चंद बंधु अस्पताल शामिल हैं. सूत्रों ने दावा किया कि नवंबर 2020 के बाद से हर सप्ताह समीक्षा किए जाने के बावजूद दिल्ली सरकार की तरफ से इन स्थलों को तैयार करने में देरी हुई. वहीं, दिल्ली सरकार ने केंद्र पर ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना में कथित तौर पर विफल रहने पर खुद की कमी को छुपाने के लिए गलत बयान देने का आरोप लगाया.