COVID-19 Case in Delhi: जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी (JMI) की कुलपति नजमा अख्तर (Najma Akhtar) ने एक आदेश जारी करते हुए 1 से 30 मई तक जामिया यूनिवर्सिटी बंद रखने का निर्णय लिया है. विश्वविद्यालय प्रशासन के मुताबिक छात्रों और शिक्षकों को कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाने के लिए यह निर्णय लिया गया है. मई के पूरे महीने जामिया विश्वविद्यालय परिसर शैक्षणिक गतिविधियों के लिए पूरी तरह बंद रहेगा. इस दौरान विभिन्न विभागों और विश्वविद्यालय के छात्र और अध्यापक विश्वविद्यालय परिसर में नहीं आएंगे.Also Read - सऊदी अरब में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले, भारत समेत इन देशों में यात्रा करने पर लगा प्रतिबंध

हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि पहले की तरह ऑनलाइन कक्षाएं और ओपन बुक एग्जाम लिए जाएंगे. यह निर्णय छात्रों का अकादमिक वर्ष बचाने के लिए लिया गया है. जामिया मिलिया इस्लामिया ने अपने सभी स्कूल भी तुरंत प्रभाव से बंद करने का फैसला किया है. इनमें आवासीय स्कूल भी शामिल है. जामिया प्रशासन ने एक आदेश जारी करते हुए बताया कि सभी कक्षाएं एवं स्कूल 30 मई तक बंद रहेंगे. स्कूलों में छात्रों का रिजल्ट तैयार करने के अलावा अन्य कोई भी शैक्षणिक अथवा गैर शैक्षणिक गतिविधि आयोजित नहीं की जाएगी. Also Read - महिला आशा स्वयंसवकों को WHO ने किया सम्मानित, पीएम नरेंद्र मोदी बोले- आपका समर्पण सराहनीय है

जामिया स्कूल के रजिस्ट्रार डॉक्टर नजीम हुसैन जाफरी ने आदेश जारी करते हुए कहा कि दिल्ली में कोरोना के हालात को देखते हुए जामिया के सभी स्कूल 30 मई तक बंद करने का फैसला लिया जा रहा है. हालांकि स्कूल बंदी के बावजूद कक्षा 9 और 11 के लिए आयोजित की जा रही ऑनलाइन परीक्षाएं अपने तय शेड्यूल के अनुसार ली जाएंगी. Also Read - देश में ओमिक्रॉन के सब वेरिएंट BA.4 और BA.5 की सरकार ने की पुष्टि, तमिलनाडु और तेलंगाना में मिले मरीज

जामिया के रजिस्ट्रार ने अपने आदेश में कहा कि ऑनलाइन परीक्षाओं के लिए जिन अध्यापकों की ड्यूटी लगाई गई है उन्हें तय तारीख पर मौजूद रहकर परीक्षाएं ऑनलाइन परीक्षाएं लेनी होंगी होंगी. परीक्षा के उपरांत छात्रों का रिजल्ट बनाने करने और आंसर शीट जांचने के लिए भी अध्यापकों को उपलब्ध रहना होगा. (आईएएनएस)