Coronavirus in Delhi दिल्ली में गत एक हफ्ते के दौरान कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों ने एंबुलेंस के लिए रोजाना करीब 2,500 कॉल किए. दिल्ली सरकार द्वारा संकलित इन आंकड़ों से राष्ट्रीय राजधानी में महामारी की गंभीरता रेखांकित होती है. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक गत एक हफ्ते में कुल 17,924 कॉल एंबुलेंस के लिए किए गए जिनमें निजी एंबुलेंस के लिए मरीजों द्वारा किए गए कॉल शामिल नहीं है. आंकड़ों के मुताबिक गत एक हफ्ते से रोजाना कम से कम 2,560 कॉल एंबुलेंस के लिए आ रहे हैं और यह संख्या बढ़ती ही जा रही है.Also Read - सरिस्का से वापस दिल्ली जा रहा था परिवार, रास्ते में हुआ हादसे का शिकार, सिर्फ एक मासूम बचा, पति-पत्नी और बेटी की मौत

इससे स्पष्ट हो जाता है कि अप्रैल महीने के पहले हफ्ते से एंबुलेंस के लिए रोजाना होने वाले कॉल की संख्या बढ़ रही है. पहले हफ्ते में एंबुलेंस के लिए आने वाली कॉल की संख्या 1,200 से 1,900 के बीच थी. आंकड़ों के मुताबिक 15 और 16 अप्रैल को 2279-2279 कॉल आए. यह संख्या 20 अप्रैल को बढ़कर 2,816 तक पहुंच गई जो हफ्ते में किसी दिन आए कॉल की सबसे अधिक संख्या है. 21 अप्रैल को भी 2,618 कॉल एंबुलेंस के लिए आए. इस अवधि में राष्ट्रीय राजधानी में 1,347 लोगों की संक्रमण से मौत हुई है. Also Read - LIVE Score SRH vs PBKS, IPL 2022 : सनराइजर्स हैदराबाद ने टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी

दिल्ली में 20 अप्रैल को 277 लोगों की मौत दर्ज की गई जबकि 19, 18,17,16 और 15 अप्रैल को क्रमश: 240,161,167,141 और 112 लोगों की जान गई. दिल्ली में कोविड-19 से होने वाली मौतों की संख्या में वृद्धि को देखते हुए दिल्ली के नगर निकाय ने वास्तविक समय में निगरानी प्रणाली स्थापित की है और शमशान भूमि और क्रबिस्तान के लिए केंद्रीय नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है. दिल्ली में बुधवार को भी संक्रमण के 24,638 नए मामले आए जबकि 249 मरीजों की मौत दर्ज की गई. राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण दर बढ़कर 31.28 प्रतिशत हो गई है जिसका अभिप्राय है कि जांच कराने वाला हर तीसरा व्यक्ति संक्रमित पाया जा रहा है. Also Read - Realme narzo 50 है बेहतरीन परफॉर्मेंस वाला 5G स्मार्टफोन, CEO माधव सेठ ने बताई इस फोन की खास बात

(इनपुट भाषा)