Delhi Air Quality: दिल्ली में हवा की गुणवत्ता अब भी ‘बहुत खराब’ (Very Poor Air Quality) की श्रेणी में बनी हुई है. बुधवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) में यह गुणवत्ता संयुक्त रूप से 362 दर्ज की गई. सफर (SAFAR) के अनुसार अब भी दिल्ली की हवा सांस लेने लायक नहीं है. हालांकि, हवा की गति बढ़ने की वजह से मंगलवार को कुछ हद तक वायु गुणवत्ता में सुधार (Better Air Quality) दर्ज किया गया था. अधिकारियों ने जानकारी दी कि मंगलवार को दल्ली का पिछले 24 घंटे का एक्यूआई 328 दर्ज हुआ था जो रविवार को 389 के स्तर पर था. मंगलवार को मामूली सुधार के बाद बुधवार को एक बार फिर सुबह लोगों को बहुत खराब गुणवत्ता की हवा में सांस लेने को मजबूर होना पड़ा है.Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

Also Read - JNU कैम्‍पस में छात्रा से छेड़छाड़ का मामला: Delhi पुलिस ने 1000 CCTV कैमरों के फुटेज खंगालकर खोज निकाला आरोपी

मंगलवार को दिल्ली के पड़ोसी शहर फरीदाबाद में एक्यूआई 331, गाजियाबाद में 287, ग्रेटर नोएडा में 254, गुड़गांव में 332 और नोएडा में 291 दर्ज किया गया, जो खराब से बहुत खराब श्रेणी के बीच हैं. शून्य से 50 के बीच एक्यूआई अच्छा माना जाता है, 51 से 100 के बीच संतोषजनक, 101 से 200 के बीच मध्यम, 201 से 300 को खराब, 301 से 400 को बहुत खराब, और 401 से 500 को गंभीर श्रेणी में माना जाता है. Also Read - Weather Report: कोहरे की मोटी चादर से Delhi-NCR में छाई सफेदी, 1901 के बाद जनवरी में सबसे ज्यादा बारिश

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि मंगलवार को अनुकूल वायु गति, 12 किमी प्रति घंटा तक ने प्रदूषकों का बिखराव बढ़ाया. दिल्ली में मंगलवार को अधिकतम तापमान 25.6 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 9.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के वायु गुणवत्ता मॉनिटर ‘सफर’ के मुताबिक एक-दो दिसंबर को हवा की गति मंद रहने का अनुमान है, जिससे वायु गुणवत्ता और खराब होगी. वहीं, तीन दिसंबर से वायु गति अनुकूल होने की उम्मीद है.

इस बीच, दिल्ली सरकार ने भी आदेश जारी कर आवश्यक सामग्री वाले ट्रकों के अलावा अन्य ट्रकों के प्रवेश पर जारी रोक को सात दिसंबर तक के लिए बढ़ा दिया. हालांकि, सीएनजी और इलेक्ट्रिक ट्रकों को प्रवेश की अनुमति रहेगी. आदेश के मुताबिक, वायु प्रदूषण के उच्च स्तर के मद्देनजर अगले आदेश तक निर्माण एवं तोड़फोड़ गतिविधियों पर रोक रहेगी.

(इनपुट – एजेंसियां)