Delhi Corona Updates: देश में कोरोना का कहर जारी है. भारत में कोरोना से रोजाना 3500-4000 लोगों की जान जा रही है. कोरोना पर काबू पाने के लिए देश के ज्यादातर राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) जैसी पाबंदियां लागू हैं. कोरोना का कहर ऐसा टूटा है कि कुछ परिवारों में एक मात्र कमाने वाले की भी मौत हो गई है. दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार राजधानी में रहने वाले ऐसे परिवारों के लिए बड़ा ऐलान किया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में बीते दिनों कई बच्चों के माता-पिता की कोरोना के कारण मौत हो गई. ऐसे अनाथ बच्चों की परवरिश और पढ़ाई का खर्चा दिल्ली सरकार ही उठाएगी. Also Read - दिल्ली में कोविड-19 के 124 नए मामले, सात लोगों की मौत; केजरीवाल ने शुरू किया योग, मेडिटेशन में एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स

केजरीवाल ने कहा कि वैसे बुजुर्ग जिनके जवान बच्चे चले गए और अब घर चलाने वाला कोई नहीं है. जिनके घरों में कमाने वाला कोई नहीं है, उन बुजुर्गों की दिल्ली सरकार मदद करेगी. केजरीवाल ने कहा कि कई बच्चे अपने मां-बाप को खो चुके हैं, लेकिन मैं कहता हूं कि बच्चों आप चिंता मत करें.. मैं हूं ना… Also Read - केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, 'कोरोना से मौत पर परिवार को मुआवजा नहीं दे सकते, वित्तीय बूते के बाहर है'

केजरीवाल ने इस दौरान यह भी बताया कि दिल्ली में संक्रमण की दर घटकर 12 फीसदी पर आ गई है. वहीं, बीते 24 घंटों में कोविड-19 के करीब 8,500 मामले दर्ज किए गए हैं. केजरीवाल ने एक ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा कि लेकिन कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई खत्म नहीं हुई है और ढिलाई बरतने की गुंजाइश नहीं है. उन्होंने कहा, ‘मैं जानता हूं कि कई बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया. मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि मैं उनके लिए उपलब्ध हैं. अपने आप को अनाथ न मानें. सरकार उनकी पढ़ाई का खर्च एवं अन्य खर्च उठाएगी.’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मैं जानता हूं कि बुजुर्ग नागरिकों ने अपने बच्चों को खो दिया है. वे उनकी कमाई पर आश्रित थे. मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि उनका बेटा (केजरीवाल) जीवित है. सरकार ऐसे सभी परिवारों की मदद करेगी जिन्होंने अपना कमाने वाला सदस्य खो दिया.’ केजरीवाल ने कहा कि पिछले 10 दिनों में कोरोना वायरस मरीजों के लिए करीब 3,000 बिस्तर उपलब्ध हैं. हालांकि आईसीयू में बिस्तर अब भी लगभग भरे हुए हैं. उन्होंने कहा, ‘हम इस दिशा में काम कर रहे हैं. करीब 1,200 और आईसीयू बिस्तरों को तैयार किया जा रहा है. ऑक्सीजन वाले बिस्तर तैयार किए जा रहे हैं और ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदे जा रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘हमें संक्रमण के मामले शून्य तक ले जाने हैं. हम ढील नहीं बरत सकते, हमें लॉकडाउन का सख्ती से पालन करना होगा.’ स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को संक्रमण के 10,489 नए मामले आए थे और 308 लोगों की मौत हो गई थी. जबकि संक्रमण दर 14.24 प्रतिशत दर्ज की गई थी.

(इनपुट: भाषा)