Delhi Electricity Update Today: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भीषण गर्मी की वजह से बिजली की मांग रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है. शहर में गुरुवार को बिजली की मांग सात हजार मेगावाट को पार कर गई. आज शुक्रवार को भी बिजली की रिकॉर्ड मांग देखी गई है. ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन (Power Minister Satyendar Jain) ने कहा कि दिल्ली ने आज 7,323 मेगावाट की अब तक की सबसे अधिक बिजली की मांग को सफलतापूर्वक पूरा किया. इस उपलब्धि के लिए दिल्ली बिजली क्षेत्र को हार्दिक बधाई.Also Read - Reliance Infra: रिलायंस इंफ्रा की अगुवाई वाली बीएसईएस डिस्कॉम मानसून के लिए तैयार

स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर, दिल्ली (State Load Despatch Center, Delhi) के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में दो जुलाई, 2021 को दोपहर 15:16 बिजली की मांग 7,323 MW थी. इसकी वेबसाइट पर बताया गया है कि राजधानी में बिजली की सबसे अधिक मांग दो जुलाई, 2019 में देखी गई थी, जब रिकॉर्ड 7,409 मेगावाट बिजली की मांग थी. ये आंकड़े ऊर्जा मंत्री के दावे से अलग हैं. Also Read - सहूलियत: प्रीपेड मीटरों को अब पेटीएम, फोनपे से भी रिचार्ज कर सकेंगे ग्राहक

इधर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने शहर में रिकॉर्ड स्तर पर बिजली की मांग पर प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि बिजली की मांग में तेजी से बढ़ोतरी के बावजूद दिल्ली ने इसे अच्छी तरह से संभाला है. सीएम केजरीवाल ने एक ट्वीट में कहा- बिजली कटौती नहीं, निर्बाध बिजली की आपूर्ति जारी. Also Read - BSES offer consumers cash-back up to 4000 for paying electricity bills in March| बिजली बिल के भुगतान पर पाएं 4,000 रुपये तक का कैशबैक, जानें कैसे मिलेगा

मामले में बिजली विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि वितरण कंपनियां- बीआरपीएल (BRPL) और बीवाईपीएल (BYPL) ने अपने इलाकों में सर्वाधिक को सफलतापूर्वक पूरा किया है. एक रिपोर्ट के मुताबिक कोविड-19 संबंधी प्रतिबंधों और मौसम की वजह से दिल्ली में इस साल सर्वाधिक मांग का अनुमान 7000-7400 मेगावाट है. शुरुआत में यह अनुमान करीब 7,900 मेगावाट था.

उल्लेखनीय है कि इन दिनों पंजाब में भी बिजली सर्वाधिक मांग बनी हुई है और कथित तौर पर बिजली संकट पैदा हो गया है. इस संबंध में आज कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए और प्रदेश की कैप्टन अमरिंदर सरकार पर कथित तौर पर निशाना साधा.