दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि कोविड ​​-19 की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए केजरीवाल सरकार ‘पूरी तैयारी’ कर रही है. जैन ने महामारी के दौरान जान गंवाने वाले डॉक्टरों को भी याद किया और कहा कि उनके नाम सुनहरे अक्षरों में लिखे जाएंगे. जैन ने लोगों से कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन करने और उनसे लापरवाही नहीं करने का आग्रह किया.Also Read - Coronavirus cases In India: 30 हजार से कम हुए कोरोना संक्रमण के दैनिक मामले, 1 दिन में 252 लोगों की हुई मौत

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘अरविंद केजरीवाल नेतृत्व वाली सरकार स्वास्थ्य कर्मियों की निस्वार्थ और समर्पित सेवा को सलाम करती है, जिन्होंने इस घातक बीमारी से लड़ने के लिए अपनी जान दांव पर लगा दी और दिल्ली सरकार के साथ दिन-रात खड़े रहे.’ उन्होंने कहा कि सरकार अनुभवों से सीखकर तीसरी लहर को रोकने के लिए तमाम कदम उठा रही है, लेकिन कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है. इसलिए लोगों को लापरवाही नहीं करनी चाहिए. जैन ने कहा कि संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार ‘पूरी तरह’ तैयार है. Also Read - Delhi Corona Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे में 20 नए केस, एक्टिव मरीजों की संख्या 400 से कम

जैन ने कहा कि सरकार स्थिति पर नजर रख रही है और वह कोई जोखिम मोल लेना नहीं चाहती है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 37,000 कोविड-19 समर्पित बेड तैयार किए जा रहे हैं, जिसमें 12,000 आईसीयू बेड भी शामिल हैं. इसके अलावा पांच एलएमओ (तरल चिकित्सकीय ऑक्सीजन) भंडारण टैंकों के साथ 47 पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र पहले ही स्थापित किए जा चुके हैं तथा कई और स्थापित किए जाएंगे. Also Read - Coronavirus cases In India: 24 घंटे में 30,256 लोग हुए संक्रमित, 295 लोगों की हुई मौत

विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने भी वरिष्ठ डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों की प्रशंसा की. गोयल ने कहा, ‘डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को ‘अग्रिम मोर्चे के योद्धा’ का दिया गया नाम बिल्कुल सही है, क्योंकि सीमा पर सेना की तरह, उन्होंने अपने जीवन के बारे में नहीं सोचा, और घातक कोरोना वायरस से लोगों की जान बचाने के लिए निस्वार्थ भाव से काम किया.’ गोयल ने कहा कि विधानसभा राष्ट्रीय राजधानी के ‘कोरोना योद्धाओं’ के लिए इस तरह के सम्मान कार्यक्रमों का आयोजन जारी रखेगी.

(इनपुट: भाषा)