नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे कोरोना वायरस मरीजों के उपचार के लिए इस्तेमाल होने वाली जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी और जमाखोरी में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए ‘विशेष कार्य बल’ का गठन करें.Also Read - त्यागराज स्टेडियम में 'डॉग वॉक' को लेकर IAS संजीव खिरवार पर बड़ी कार्रवाई, दिल्ली से लद्दाख हुआ ट्रांसफर

मुख्य सचिव विजय देव ने एक आदेश में कहा कि औषधि नियंत्रक नकली दवाओं का निर्माण एवं आपूर्ति रोकने, जांच करने और छापे मारने के लिए तत्काल पर्याप्त टीमों का गठन करेंगे. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की राज्य कार्यकारी समिति के अध्यक्ष देव ने संबंधित अधिकारियों को इस संबंध में उठाए कदमों की जानकारी देने का भी निर्देश दिया. उन्होंने रविवार को जारी आदेश में कहा, ‘‘सभी जिलाधिकारी अपने समकक्ष जिला पुलिस उपाधीक्षकों की सहायता से एक विशेष कार्य बल गठित करेंगे.’’ Also Read - महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे ने कोरोना को लेकर दी नसीहत, कहा- अभी खत्म नहीं हुआ संक्रमण, लोग...

मुख्य सचिव ने कहा, ‘‘विशेष कार्य बल की मुख्य जिम्मेदारी जीवन रक्षक नकली दवाओं का निर्माण एवं आपूर्ति रोकना, जांच करना और छापे मारना होगी. कोरोना वायरस मरीजों के उपचार के लिए इस्तेमाल होने वाली जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी और जमाखोरी को रोकना भी उनकी मुख्य जिम्मेदारी होगी.’’ Also Read - अब रात 10 बजे तक खिलाडियों के लिए खुले रहेंगे दिल्ली के सभी खेल परिसर, CM केजरीवाल ने लिया फैसला

दिल्ली में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 22,933 नए मामले सामने आए तथा 350 और लोगों की इस घातक बीमारी से मौत हो गई. राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण की दर 30.21 प्रतिशत है. स्वास्थ्य संबंधी सरकारी बुलेटिन के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 10,27,715 हो गए हैं और कुल मृतक संख्या बढ़कर 14,248 हो गई है.