Delhi Me Kab Khulenge School: कोरोना की दूसरी लहर का कहर धीरे-धीरे कम हो रहा है. हालांकि तीसरी लहर की आशंका के बीच कई राज्यों में एहतियात बरती जा रही है. ज्यादातर राज्यों में स्कूलों और कॉलेजों को दोबारा खोला जा चुका है तो कुछ राज्यों में इसे खोले जाने की तैयारी की जा रही है. देश की राजधानी दिल्ली में भी कोरोना का कहर कम होने के बाद ऊपरी कक्षा के स्कूल खोल दिये गए हैं. हालांकि पहली से 8वीं तक के स्कूलों को खोले जाने का अब भी इंतजार किया जा रहा है.Also Read - UP Polls 2022: मनीष सिसोदिया का बड़ा ऐलान- 'यूपी में AAP की बनी सरकार तो 24 घंटे के अंदर 300 यूनिट फ्री बिजली'

इन सबके बीच छठी से आठवीं तक के स्कूलों को खोले जाने को लेकर दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बड़ी जानकारी दी है. शिक्षा विभाग का भी प्रभार संभाल रहे मनीष सिसोदिया ने न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा, दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) की बैठक में इस पर चर्चा होगी. इसके बाद फैसला लिया जाएगा कि दिल्ली में 6वीं से 8वीं कक्षा के स्कूल कब खोले जाएंगे. Also Read - Delhi Me Kab Khulenge School: क्या दिल्ली में खुलेंगे 8वीं तक के सभी स्कूल, DDMA की बैठक में हुआ यह फैसला

Also Read - Delhi Me Kab Khulenge Schools: दिल्ली में कब खुलेंगे जूनियर क्लास के स्कूल, आज हो सकता है फैसला

मालूम हो कि दिल्ली में 1 सितंबर से 9वीं से 12वीं कक्षा तक के स्कूलों को फिर से खोला गया है. हालांकि स्कूलों में जाने से पहले माता-पिता की लिखित सहमति की जरूरत होगी. दिल्ली सरकार ने पहले ही यह स्पष्ट किया था कि किसी भी छात्र को स्कूल आने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा और इसके लिए अभिभावकों की अनुमति अनिवार्य होगी.

वहीं, दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने भी स्कूल फिर से खोलने के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किये थे. इन दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि सभी की अनिवार्य रूप से ‘थर्मल स्क्रीनिंग’ हो, भोजनावकाश चरणबद्ध तरीके से हो, कक्षा में विद्यार्थियों के बीच उचित दूरी का पालन हो और आंगुतकों को आने से रोका जाए. प्राधिकरण ने कहा कि कोविड-19 निरुद्ध क्षेत्रों में रहने वाले विद्यार्थियों, शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों को स्कूलों और कॉलेजों में आने की अनुमति नहीं होगी.