Delhi Me Kab Khulenge School: देश में कोरोना की दूसरी लहर का कहर धीरे-धीरे कम होने के बाद ज्यादातर राज्यों में पाबंदियों में ढील दी जा रही है. हालांकि संभावित तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए कुछ सावधानियां भी बरती जा रही हैं. इन सबके बीच स्कूल-कॉलेजों (Delhi School College Reopening Update) को भी फिर से खोला जा रहा है. कुछ राज्यों में पाबंदियों के साथ स्कूल-कॉलेज (Delhi Me Kab Khulenge School) खुल गए हैं तो कहीं पर कोरोना के हालात का जायजा लिया जा रहा है और जल्द ही फैसला लिये जाने की उम्मीद है. हालांकि इसके साथ-साथ ऑनलाइन माध्यम से भी पढ़ाई जारी रहेगी. इन सबके बीच दिल्ली में भी स्कूलों के खुलने को लेकर तैयारी की जा रही है. इसकी जानकारी डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने दी.Also Read - UP Polls 2022: मनीष सिसोदिया का बड़ा ऐलान- 'यूपी में AAP की बनी सरकार तो 24 घंटे के अंदर 300 यूनिट फ्री बिजली'

न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Delhi Dy CM Manish Sisodia) ने कहा, ‘स्कूल खोलने को लेकर मैंने लोगों से सुझाव मांगे थे. 30-35 हजार सुझाव आए हैं. कुछ लोग स्कूल खोलना (Delhi Me School kab Khulenge) चाहते हैं, कुछ डरे हुए हैं. हम इसकी स्टडी करा रहे हैं. इसके आधार पर कोई निर्णय होगा तो बताएंगे. स्कूल खुलेंगे कि नहीं समय पर बता दिया जाएगा. हालांकि ज्यादातर लोग स्कूलों को फिर से खोले जाने के पक्ष में हैं. Also Read - Delhi Me Kab Khulenge School: क्या दिल्ली में खुलेंगे 8वीं तक के सभी स्कूल, DDMA की बैठक में हुआ यह फैसला

Also Read - Delhi Me Kab Khulenge Schools: दिल्ली में कब खुलेंगे जूनियर क्लास के स्कूल, आज हो सकता है फैसला

इससे पहले उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने सोमवार को लंबे समय से बंद स्कूलों (माध्यमिक और इंटरमीडिएट) को 16 अगस्त से आधी क्षमता के साथ खोलने का फैसला लिया है. इसके साथ-साथ उच्च शिक्षण संस्थानों को एक सितंबर से खोलने की तैयारी किये जाने के निर्देश दिये हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में अधिकारियों की बैठक के बाद अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया, ‘माध्यमिक और इंटरमीडिएट शिक्षण संस्थाओं के छात्र 15 अगस्त को अपने-अपने स्कूल, कालेजों में स्वंतत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के कार्यक्रम में शामिल होंगे. 16 अगस्त से कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए आधी क्षमता के साथ पठन-पाठन प्रारम्भ होगा.’

इससे पहले सूचना विभाग द्वारा जारी बयान के मुताबिक मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमण की नियंत्रित स्थिति को ध्यान में रखते हुए सभी शिक्षण संस्थानों में नवीन सत्र प्रारंभ करने की तैयारी की जाए. माध्यमिक और इंटरमीडिएट के परिणाम घोषित हो चुके हैं. ऐसे में स्नातक स्तर पर दाखिले की प्रक्रिया पांच अगस्त से प्रारंभ कर दी जानी चाहिए.

माध्यमिक शिक्षण संस्थानों में भी जिन विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रोन्नत किया गया है, उनके दाखिले की प्रक्रिया भी शुरू कर दी जाए. उच्च शिक्षण संस्थानों में पठन-पाठन प्रत्येक दशा में एक सितंबर से प्रारम्भ करने की तैयारी की जाए. उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थानों के प्रारंभ होने के साथ 18 वर्ष से अधिक आयु के विद्यार्थियों के टीकाकरण के लिए विशेष शिविर लगाया जाना उचित होगा. स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस संबंध में पहले से ही सभी जरूरी तैयारी कर ली जाए.

(इनपुट: ANI,भाषा)