Delhi News in Hindi: दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की टीम ने राष्ट्रीय राजधानी में ब्लैक फंगस (Black Fungus or Mucormycosis) के इलाज में इस्तेमाल होने वाली एंटिफंगल मेडिसिन अम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन (Amphotericin-B injections) की कालाबाजारी में शामिल एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है. आज रविवार को डीसीपी क्राइम ब्रांच मोनिका भारद्वाज ने बताया कि दस लोगों की गिरफ्तारी हुई है.Also Read - Delhi News: दिल्ली की 50 से ज्यादा कॉलोनियों में कल तक नहीं आएगा पीने का पानी, DJB ने जारी की लिस्ट

उन्होंने बताया कि जांच के दौरान ने हमने डॉक्टर अल्तमस हुसैन को गिरफ्तार किया. हुसैन उत्तर प्रदेश में देवरिया का निवासी है. आरोपी ने पूछताछ में बताया कि उसने अम्फोटेरिसिन बी की 300 एक्सपायर्ड शीशियां खरीदीं. इसके बाद उसने अम्फोटेरिसिन बी की शीशियो में पाइपरेसिलिन/ताजोबैक्टम दवा को पैक किया और इसका वितरण किया. Also Read - Delhi: जूता फैक्‍ट्री में लगी भीषण आग में 5-6 लोगों के फंसेे होने की आशंका, 31 दमकलें फायर ऑपरेशन में लगीं

डीसीपी भारद्वाज ने बताया कि इस संबंध में हमने आगे की जांच की और दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित एक घर से एंटी फंगल की 300 शीशियां बरामद कीं. ये सभी इंजेक्शन नकली हैं या नहीं इसकी अभी जांच की जा रही है. हालांकि, यह स्पष्ट है कि अम्फोटेरिसिन बी के सभी इंजेक्शन नकली थे. Also Read - स्वस्थ व्यक्ति को भी हवा से ब्लैक फंगस संभव? डायबिटीज के मरीजों और कमजोर इम्युनिटी वालों के लिए मुसीबत है ये बीमारी

मालूम हो कि अम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन का इस्तेमाल ब्लैक फंगस के इलाज में किया जाता है. ब्लैक फंगस नाक, आंखों, साइनस के साथ कभी-कभी दिमाग को भी नुकसान पहुंचाता है. ये बीमारी डायबिटीज, कैंसर, एचआईवी/एड्स के मरीजों के लिए जान का खतरा साबित हो सकती है.