Unlock Delhi: कोरोना नियमों (CoronaVirus Guidelines) की लापरवाही को लेकर राजधानी दिल्ली में पहली बार किसी बाजार पर बड़ी कार्रवाई की गई है. कोरोना गाइडलाइंस (CoronaVirus Guidelines) को तोड़कर रोज उमड़ रही लोगों की भीड़ को नियंत्रित न कर पाने और अन्य नियमों के उल्लंघन करने पर दिल्ली के फेमस लक्ष्मी नगर बाजार को एक सप्ताह के लिए बंद कर दिया गया है. इस संबंध में पूर्वी जिला प्रशासन ने मंगलवार देर रात आदेश जारी कर दिया है, जिसमें 5 जुलाई तक बाजार की सभी दुकानों को बंद रखने का निर्देश दिया है. प्रशासन की इस कार्रवाई से मार्केट के दुकानदारों में हड़कंप मचा हुआ है.Also Read - दिल्ली में लगातार बढ़ता जा रहा है कोरोना वायरस, वैज्ञानिकों ने बताई इसकी ये बड़ी वजह, आप भी जान लीजिए...

पूर्व दिल्ली के जिलाधिकारी ने कोरोना नियमों के हो रहे उल्लंघन को देखकर ये बड़ा कदम उठाया है. उन्होंने ऐसे बाजारों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें पांच जुलाई तक बंद करने का आदेश दिया है. इनमें लक्ष्मी नगर बाजार, मंगल बाजार, विजय चौक, सुभाष चौक, जगतराम पार्क, गुरू रामदास नगर शामिल हैं. Also Read - Covid-19 Updates: दिल्ली-महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में फिर तेजी से पैर पसार रहा कोरोना, आज मिले 2593 नए मरीज, 44 की मौत

Also Read - ...तो क्या दिल्ली में आ गई है कोरोना की चौथी लहर? फिर तेजी से फैल रहा है वायरस, क्या कहा एक्सपर्ट्स ने, जानिए

गीता कॉलोनी की तीन दुकानें की गईं सील

प्रशासन की सख्त हिदायत के बावजूद बाजार में लोग बिना मास्क और शारीरिक दूरी के नियम का पालन किए घूम रहे थे. अधिकारियों ने कई बार मार्केट एसोसिएशन व दुकानदारों के साथ बैठक की और नियमों का पालन करवाने की अपील की है. इस बीच प्रशासन को इंटरनेट मीडिया पर बाजार में नियमों के उल्लंघन को लेकर कई शिकायतें मिलीं, जिसमें कहा गया कि अगर बाजार में भीड़ को नियंत्रित नहीं किया तो कोरोना फैल सकता है. ऐसी शिकायत मिलने के बाद दिल्ली के गीता कालोनी में भी प्रशासन ने खाने-पीने की तीन दुकानों को सील कर दिया है.

जहां लापरवाही दिखेगी, कार्रवाई होगी
जिलाधिकारी सोनिका सिंह और एसडीएम राजेंद्र कुमार की टीम ने मंगलवार रात को बाजार का दौरा किया और नियमों का उल्लंघन पाए जाने पर पूरे बाजार को बंद करवा दिया. कार्रवाई से प्रशासन ने संदेश दिया है कि जहां भी नियमों का उल्लंघन पाया जाएगा, वहां सख्त कार्रवाई की जाएगी, कार्रवाई तब तक जारी रहेगी जब तक लोग नियमों का उल्लंघन करने वाली अपनी आदत को सुधार नहीं लेते.