कोविड-19 की वजह से परिवार खोने वाले बच्चों के लिए दिल्ली के महिला और बाल विकास विभाग (Women and Child Development Department) ने सभी जिलों में जिला टास्क फोर्स का गठन किया है. दिल्ली सरकार (Delhi Government) के कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने आज शनिवार को डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स (Task Force) का गठन किया. डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स उन बच्चों के लिए काम करेगी, जिन्होंने हाल ही में कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से अपने परिवार को खो दिया है. कई विभाग इस टास्क फोर्स का हिस्सा होंगे. डिस्ट्रिक्ट डब्ल्यूसीडी ऑफिसर, डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन ऑफिसर, चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के अध्यक्ष, डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट, एसडीएम और डीसीपीसीआर की ओर से नामित व्यक्ति इसके सदस्य होंगे.Also Read - Delhi में कोरोना पॉजिटिविटी दर 20 फीसदी के करीब, बढ़ते मामलों के बीच LG की अपील- 'महामारी अभी खत्म नहीं हुई है इसलिए...'

राजेंद्र पाल गौतम ने टास्क फोर्स को हर समय सतर्क रहने के निर्देश दिए। बच्चों की सुरक्षा के लिए लगन से काम करने के लिए प्रोत्साहित किया। गौतम ने सभी एजेंसीज को एक साथ काम करने के लिए भी प्रोत्साहित किया। गौतम ने कहा कि कोरोना महामारी की वजह से कई मासूम बच्चों ने अपने माता-पिता और परिवारों को खो दिया है। ऐसी स्थिति में दिल्ली सरकार उनके साथ खड़ी है। हमको यह सुनिश्चित करना है कि ऐसे बच्चों को चाइल्ड वेलफेयर कमिटी के माध्यम से सुरक्षा मिले। Also Read - भारत में नए COVID-19 केसों में गिरावट, पिछले 24 घंटे में 8813 मामले; एक्टिव केस भी हुए कम

उन्होंने जोर दिया कि डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स एक चाइल्ड केयर का मॉडल बनना चाहिए। हमें हर उस बच्चे की सुरक्षा और देखभाल के लिए काम करना चाहिए, जिन्होंने इस महामारी में अपने परिवार को खो दिया है। यह एक मॉडल की तरह काम करना चाहिए। उन्होंने सलाह दी कि हर जिले में एक नशा मुक्ति केंद्र बनना चाहिए। Also Read - स्वतंत्रता दिवस पर कोरोना से जंग में बड़ी उपलब्धि, देश की पहली Nasal Vaccine का ट्रायल सफलतापूर्वक पूरा

राजेंद्र पाल गौतम ने इस दौरान डब्ल्यूसीडी के आईसीडीएस डिपार्टमेंट के फ्रंटलाइन वॉरियर्स को श्रद्धांजलि दी, जिन्होंने कोरोना के दौरान अपनी ड्यूटी करते समय जान गंवा दी। राजेंद्र पाल गौतम ने कहा, “इस कठिन परिस्थितियों में भी हमारे आईसीडीएस डिपार्टमेंट के कर्मचारियों ने घर-घर जाकर महिलाओं और बच्चों को राशन दिया। इस दौरान उनको खुद भी करोना हो गया। मैं ऐसे कोरोना वॉरियर्स को सलाम करता हूं।” (आईएएनएस)