नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा टोल ब्रिज कंपनी लिमिटेड (NTBCL) की अपील पर सुनवाई 6 हफ्ते के लिए टाल दी है. ये याचिका दिल्ली नोएडा डायरेक्ट (डीएनडी) फ्लाईवे पर से टोल टैक्स हटाने को लेकर दायर की गई थी. मंगलवार 13 फरवरी को नोएडा टोल ब्रिज कंपनी लिमिटेड की नोएडा रेजिडेंट्स वेलफेयर असोसिएशन और अन्य के खिलाफ दायर अपील कोर्ट ने खारिज कर दी. जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की बेंच ने इसकी सुनवाई की थी. 

Supreme court refuses to stay Allahabad HC order making DND flyway toll free |टोल फ्री रहेगा डीएनडी फ्लाईवे

Supreme court refuses to stay Allahabad HC order making DND flyway toll free |टोल फ्री रहेगा डीएनडी फ्लाईवे

कंपनी की याचिका उस पीआईएल के खिलाफ दायर की गई थी जिसमें यूजर फीस के नाम पर लेवी और कलेक्शन को चुनौती दी गई थी. बता दें कि डीएनडी 9.2 किलोमीटर लंबा फ्लाईवे है और यह नोएडा को दिल्ली से जोड़ता है. नवंबर 2016 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने फ्लाईवे पर से टोल को हटा दिया था. डीएनडी को ऑपरेट और मेंटेन करने वाली कंपनी ने इसके बाद सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.

सुप्रीम कोर्ट से कंपनी को कड़ी फटकार लगी थी. कोर्ट ने कहा था कि कंपनी ने ‘सड़क को चांद तक नहीं बनाया है.’ कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि डीएनडी अभी टोल फ्री ही रहेगा. अब इस नई याचिका पर भी कंपनी को झटका लगा है. कंपनी की टोल प्रक्रिया इस छोटी दूरी के लिए इससे भी लंबे और व्यस्त गुरुग्राम एक्सप्रेसवे से कहीं अधिक है. गुरुग्राम एक्सप्रेसवे 2014 से ही टोल फ्री हो चुका है.

यही नहीं, कंपनी का हर कार के लिए 28 रुपये का टोल फ्लाईवे की लंबाई के हिसाब से भी अधिक था. हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा भी था कि कंपनी ने अपने निवेश का हर उचित रिटर्न हासिल कर लिया है.