Farmers Protest: देश की राजधानी दिल्ली में किसानों का प्रदर्शन जारी है. किसान नए कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. किसान संगठनों की मांग है कि इन कानूनों को जल्द से जल्द वापस लिया जाए. उधर, किसान आंदोलन (Kisan Andolan) को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) पर जमकर हमला बोला. केजरीवाल ने कहा कि किसानों के मुद्दों पर कैप्टन साहब गंदी राजनीति ना करें. Also Read - Farmers Protest: किसानों और सरकार के बीच नौवें दौर की वार्ता भी रही बेनतीजा, अगली मीटिंग 19 जनवरी को

केजरीवाल ने कहा कि पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुझ पर आरोप लगाया कि मैंने दिल्ली में काले कानूनों को पारित किया है. कैप्टन के पास एक, दो नहीं बल्कि कई मौके थे. लेकिन उसके बावजूद उन्होंने तीन काले कानूनों को पास होने से नहीं रोका. इस नाजुक स्थिति में अब वह निम्न स्तर की राजनीति कैसे कर सकते हैं? इसे लागू करने के लिए राज्य सरकार पर निर्भर नहीं है. अगर ऐसा होता तो देश के किसान केंद्र के साथ बातचीत क्यों करते?

उन्होंने आगे कहा कि कैप्टन साहब के आरोपों के पीछे का कारण यह है कि हमने दिल्ली के 9 स्टेडियमों को जेलों में तब्दील नहीं होने दिया. केंद्र की योजना किसानों को इन स्टेडियमों में रखने की थी. वे मुझसे परेशान इसलिए हैं, क्योंकि मैंने उन्हें जेल बनाने की अनुमति नहीं दी.

केजरीवाल ने कहा कि केंद्र ने काले कानून बनाने के लिए कमेटी बनाई थी, उस कमेटी में कैप्टन साहब भी थे. पंजाब के लोग पूछ रहे हैं, आपने कमेटी में कानून का विरोध क्यों नहीं किया? बिलों को क्यों नहीं रोका? ये तीनों काले क़ानून केंद्र सरकार के हैं. इनको कोई राज्य सरकार ना तो रोक सकती है, ना पास कर सकती है. अगर कोई राज्य सरकार ये क़ानून रोक सकती तो देश भर के किसान दिल्ली में केंद्र सरकार से बात करने क्यों आते?

(इनपुट: ANI)