Farmers leaders fifth round of talks with Central government at Vigyan Bhawan in Delhi: देश में पिछले 10 दिन से केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों और केंद्र की मोदी सरकार के बीच 5वें दौर की वार्ता दिल्‍ली के विज्ञानभवन में शुरू हो चुकी है. किसान प्रतिनिधियों से के लिए कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेल मंत्री पीयूष गोयल, वाणिज्य राज्य मंत्री श्री सोम प्रकाश विज्ञान भवन में मौजूद हैं. Also Read - Kisan Andolan: किसान नेता का बड़ा ऐलान, 'ट्रैक्टर रैली के बाद, 1 फरवरी को संसद की ओर पैदल मार्च करेंगे'

इससे पहले 4 मीटिंगों में कोई ठोस नतीजा सामने नहीं आ सका है.

किसान संगठनों के नेता कुछ बसों से विज्ञान भवन पहुंचे. इस बीच पंजाब के आजाद किसान संघर्ष कमेटी के राज्‍य प्रमुख ने कहा कि हम पूरी तरह से लागू किए जा रहे कृषि कानूनों की वापसी चाहते हैं. यदि सरकार हमारी मांग को स्‍वीकार नहीं करती है तो हम अपना विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे.

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा, ”किसानों का गलतफहमी में आंदोलन करना सही नहीं है, ये कानून किसानों के हित में हैं. जानबूझकर विपक्ष किसानों को भटका रहा है, सरकार बातचीत कर रही है और कोई न कोई मार्ग निकलेगा.

वहीं, दोआब किसान संघर्ष समिति के नेता हरसुलिंदर सिंह ने कहा, ”किसान कानूनों पर केंद्र सरकार के साथ पांचवें दौर की बातचीत करने के लिए किसान प्रतिनिधि विज्ञान भवन आए हैं. “हम कानूनों को वापस लेना चाहते हैं. हम कानूनों में संशोधन के सरकार के प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करेंगे,”

बता दें कि आज शनिवार को सुबह प्रधानमंत्री आवास पर पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्र‍ियों के बीच एक मीटिंग हुई थी, जिसमें सरकार ने किसानों की मांगों को पूरा करने के लिए संभावित आगामी रणनीति पर चर्चा की थी. यह पहली बार है जब मोदी ने अपने मंत्रियों से इस मुद्दे पर चर्चा की थी.

सरकार और किसान संगठनों के बीच पांचवे दौर की अहम बातचीत से पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह सहित केंद्रीय मंत्रियों ने प्रदर्शनकारियों के समक्ष दिए जाने वाले संभावित प्रस्ताव पर विचार-विमर्श के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी.

इससे पहले प्रदर्शनकारी किसानों की मांगे को सुलझाने को लेकर राजनाथ सिंह और अमित शाह ने केंद्रीय मंत्रियों के साथ विचार विमर्श किया था.

 

देश की राजधानी में केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा, यूपी समेत कई राज्‍यों के किसानों के प्रदर्शन शनिवार को 10वें दिन भी जारी हैं. किसानों के इस प्रदर्शन के चलते दिल्‍ली के बॉर्डर पर किसान अड़े हुए हैं, जिसके चलते विभिन्‍न मार्गों पर जाम की स्थिति हैं.

वहीं, सिंघू में दिल्ली-हरियाणा सीमा पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों ने अपना विरोध जारी रखा है.

 

दिल्‍ली हरियाणा बॉर्डर Delhi-Haryana border में टीकरी Tikri में किसानों का विरोध प्रदर्शन Farmers protest जारी है. दिल्‍ली Traffic Police ने बताया है झटीकरा बॉर्डर Jhatikara border (Delhi-Haryana border) केवल two-wheeler वाहनों के लिए खुला है. हरियाणा के लिए खुली सीमाएं – धनसा, दौराला, कपासेरा, राजोखरी NH-8, बिजवासन / बजघेरा, पालम विहार और डूंडाहेरा हैं. दिल्‍ली ट्रैफिक पुलिस ने कहा है कि एनएच 24 पर दिल्‍ली-यूपी बॉर्डर (UP-Delhi border) गाजीपुर सीमा Gazipur border भी बंद है. गाजियाबाद से दिल्‍ली ट्रैफिक बंद है.