Kisan Andolan: केंद्र के नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हजारों की संख्या में किसान पिछले एक महीने से अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं. सिंघू बॉर्डर पर किसानों ने हाईवे पर अपना डेरा डाला हुआ है. हालांकि यहां ठंड के अलावा किसानों को नेटवर्क की भी समस्या आ रही है. इसी को देखते हुए आम आदमी पार्टी ने किसानों के लिए वाईफाई की सुविधा लगवाने का फैसला किया है. Also Read - Kisan Andolan: 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च निकालने पर अडिग किसान यूनियन, आज सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय

दिल्ली सरकार के मंत्री राघव चड्ढा ने मंगलवार को बताया कि आम आदमी पार्टी किसानों के लिए प्रदर्शन की जगह पर Wifi लगाएगी. पहला हॉटस्पॉट 24 से 48 घंटे के अंदर शुरू होगा. उन्होंने कहा कि परिजनों से बात करने में दिक्कत होने के कारण किसानों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से Wifi लगाने की मांग की थी. Also Read - 26 जनवरी को परेड निकालेंगे प्रदर्शनकारी किसान, बोले- आंदोलन का समर्थन करने वालों के खिलाफ मामले दर्ज कर रही NIA

बता दें कि प्रदर्शनकारी किसानों से मिलने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रविवार शाम दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पहुंचे थे. किसानों के बीच पहुंचकर मुख्यमंत्री ने केंद्रीय कृषि कानूनों को काला कानून कहा. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मुताबिक कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की यह आंदोलन अब आर-पार की लड़ाई हो चुका है. Also Read - Farmers Protest: पंजाब के मंत्री का बड़ा आरोप, 'एनआईए ने किसान आंदोलन के समर्थकों को नोटिस भेजा'

गुरु गोविंद सिंह के चार बेटों एवं माता जी की शहादत दिवस पर उन्हें याद करने के लिए सिंघु बॉर्डर पर दिल्ली सरकार की पंजाब एकेडमी ने कीर्तन दरबार आयोजित किया था. सीएम अरविंद केजरीवाल इस कार्यक्रम में शामिल हुए. उन्होंने ने कहा कि हम सब लोग गुरु गोविंद सिंह जी के साहिबजादों और माता जी की शहादत को नमन करने के लिए इकट्ठे हुए हैं.

वहीं केंद्र सरकार ने नये कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे 40 किसान संगठनों को सभी प्रासंगिक मुद्दों पर अगले दौर की वार्ता के लिए 30 दिसंबर को बुलाया है. सरकार द्वारा सोमवार को उठाए गये इस कदम का उद्देश्य तीन नये कृषि कानूनों पर जारी गतिरोध का एक ‘‘तार्किक समाधान’’ निकालना है.