Delhi, Red Fort, farmers violence,farmers protest, kisan andolan: दिल्‍ली में कल मंगलवार को कई स्थानों पर पुलिस और ट्रैक्‍टर रैली निकालने वाले प्रदर्शनकारी किसानों के बीच झड़पों में 300 से ज्‍यादा पुलिस जवान घायल हो गए. इन हमलों में घायल कुछ पुलिस अधिकारी और कर्ममचारी ने अपनी आपबीती बताई है.Also Read - Netaji Subhash Chandra Bose की प्रतिमा के होलोग्राम का PM Modi आज करेंगे अनावरण, जानें क्या होगा खास

दिल्‍ली के वजीराबाद एसएचओ पीसी यादव ने बताया, ” हम लाल किले में तैनात थे जब कई लोग वहां घुस गए. हमने उन्हें किले के प्राचीर से हटाने की कोशिश की, लेकिन वे आक्रामक हो गए …. हम किसानों के खिलाफ बल का उपयोग नहीं करना चाहते थे इसलिए हमने यथासंभव संयम बरता… Also Read - मुस्लिम महिलाओं के प्रति अश्लील टिप्पणी का केस: Club House पर बिसमिल्लाह नाम से प्रोफाइल बनाए था आरोपी, पकड़ा गया

Also Read - शादी के कार्ड पर किसान आंदोलन की झलक, दूल्हे ने लिखवाया- जंग अभी जारी है, MSP की बारी है

वहीं, नॉर्थ दिल्‍ली के डीसीपी के ऑपरेटर संदीप ने बताया, ” कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुंच गए. नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन पर अचानक तलवार, लाठी और अन्य हथियारों से हमला किया. स्थिति बिगड़ रही थी और हिंसक भीड़ को नियंत्रित करना हमारे लिए बहुत मुश्किल था.

दिल्ली पुलिस ने कहा, अतिरिक्त डीसीपी सेंट्रल के ऑपरेटर पर आईटीओ में कल तलवार से हमला किया गया था.

मेटल डिटेक्टर गेट एवं टिकट कांउटर में की गई तोड़फोड़ को देखा जा सकता था, इसके अलावा लालकिले परिसर में कांच के टुकड़े बिखरे हुए थे. दिल्ली पुलिस ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के संबंध में अभी तक 22 प्राथमिकियां दर्ज की हैं. हिंसा में 300 से अधिक पुलिस कर्मी घायल हो गए थे.

देश की राष्ट्रीय राजधानी में कल मंगलवार को कई स्थानों पर पुलिस और ट्रैक्‍टर रैली निकालने वाले प्रदर्शनकारी किसानों के बीच झड़पों में 300 से ज्‍यादा पुलिस जवान घायल हो गए. यह ताजा जानकारी दिल्‍ली पुलिस ने अपने बयान में दी है.

बता दे कि मंगलवार को कृषक संगठनों की केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए हजारों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाली थी. इस दौरान कई जगह प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के अवरोधकों को तोड़ दिया और पुलिस के साथ झड़प की, वाहनों में तोड़ फोड़ की और लाल किले पर एक धार्मिक ध्वज लगा दिया था.

दिल्ली पुलिस ने कहा, आईटीओ में कल किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के संबंध में आईपी पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज की गई है. किसान, जिसकी ट्रैक्टर की चपेट में आने के बाद मौत हो गई थी, उसके सहित अज्ञात प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. अतिरिक्त पीआरओ (दिल्ली पुलिस) अनिल मित्तल ने बताया कि मंगलवार को हुई हिंसा के मामले में अभी तक 22 प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं.