नई दिल्ली: दिल्ली में किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के बीच कृषि कानूनों ( New Farm Laws) को लेकर बहस जारी है. केंद्र सरकार और राज्यों में बीजेपी की सरकारें इसके फायदे बता रही हैं. वहीं, इन कानूनों को लेकर किसान और विपक्ष सरकार पर हमलावर है. इसे लेकर दिल्ली में एक दिलचस्प सियासी वाकया हुआ. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने बीजेपी नेताओं को कृषि कानूनों को लेकर खुली बहस की चुनौती दी. तो बीजेपी ने इसे लेकर अलग तरह से जवाब दिया. बीजेपी ने एक मीटिंग आयोजित कर अरविंद केजरीवाल के लिए कुर्सी लगवा दी और उस पर केजरीवाल के नाम की पर्ची चिपका दी. बीजेपी नेताओं ने कहा कि हम बहस के लिए केजरीवाल का इंतज़ार कर रहे हैं. Also Read - Cow Drinks Liquor Viral News: पानी समझकर शराब पी गईं गायें, फिर जो हुआ उसे जान दंग रह गए लोग

इस दौरान पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) , प्रदेश अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता सहित और भी कई नेता मौजूद रहे. आदेश गुप्ता और मनोज तिवारी ने कहा कि आज भले ही मुख्यमंत्री केजरीवाल अपनी व्यस्तता के कारण न पहुंचे हों, लेकिन आगे वे अपनी सुविधानुसार समय और स्थान बताएं तो भाजपा नेता उन्हें तीनों कृषि कानूनों के फायदे बताएंगे. मनोज तिवारी ने कहा कि उन्होंने आज केजरीवाल को चर्चा के दौरान पिलाने के लिए स्पेशल चाय की भी व्यवस्था की थी, लेकिन बुलावे के बाद भी मुख्यमंत्री नहीं आ रहे हैं. Also Read - बीजेपी में जाने पर भी खटपट! ज्योतिरादित्य सिंधिया की इस बड़े BJP नेता से बढ़ रही हैं दूरियां, सियासी घमासान के आसार

दरअसल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर जाकर प्रदर्शनकारी किसानों से मुलाकात कर केंद्र सरकार से तीनों कानूनों को वापस लेने की मांग की. इस दौरान उन्होंने कानूनों पर बहस की चुनौती देते हुए कहा, “मैं किसी भी केंद्रीय मंत्री को चुनौती देता हूं कि वह किसानों के साथ खुली बहस करें, जिससे पता चल जाएगा कि ये कृषि कानून लाभदायक हैं या हानिकारक.” Also Read - बिहार विधान परिषद जाएंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन, बीजेपी ने दिया एमएलसी का टिकट

केंद्र सरकार के किसी मंत्री ने उनकी चुनौती तो नहीं स्वीकार की, लेकिन दिल्ली भाजपा इकाई ने जरूर उन्हें बहस के लिए आमंत्रित किया. इसकी पहल भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने की. मनोज तिवारी के 24, मदर टेरेसा क्रिसेंट रोड स्थित आवास पर दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता (Adesh Kumar Gupta) भी पहुंचे.

आदेश गुप्ता ने कहा कि दूसरे राज्यों मे जाकर मुख्यमंत्री केजरीवाल कहते हैं कि कृषि कानून के क्या लाभ हैं, उन्हें यह समझाने के लिए कोई नहीं आया. आज जब उनको यह समझाने के लिए बुलाया, तो वे आए नहीं. मनोज तिवारी ने कहा कि कुछ दिनों पहले निगम के तीनों महापौर मुख्यमंत्री के दरवाजे के बाहर कई दिनों तक रहे, लेकिन केजरीवाल बाहर निकलकर मिलने तक नहीं आए. अब कृषि कानूनों पर बहस के लिए बुलावे के बाद भी वह नहीं आए.