Omicron Update: दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार (Arvind Kejriwal) कोरोना के नए स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ के संभावित खतरे से निपटने के लिए कमर कस रही है. दिल्ली सरकार ने इसके लिए ऑक्सीजन युक्त 30,000 बिस्तर तैयार किए हैं और ऑक्सीजन की आपूर्ति और भंडारण सुविधाओं को भी बढ़ाया है. मुख्यमंत्री ने कोविड महामारी की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारियों की समीक्षा के लिए सरकारी विभागों के साथ बैठक की. उन्होंने कहा, ‘इस बार, हमने ऑक्सीजन युक्त 30,000 बिस्तर तैयार किए हैं. इनमें से 10,000 आईसीयू बिस्तर हैं. 6,800 बिस्तर निर्माणाधीन हैं जो फरवरी तक तैयार हो जाएंगे.’ मुख्यमंत्री ने डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘नगर निगम के प्रत्येक वार्ड में हम दो सप्ताह के नोटिस पर 100 ऑक्सीजन बिस्तर तैयार कर सकेंगे. 270 नगर निकाय वार्ड हैं, जिसका मतलब है कि हम कम समय में 27,000 बिस्तर तैयार कर सकेंगे.’Also Read - Mumbai Fire: मुंबई में भाटिया हॉस्पिटल के पास 20 मंजिला इमारत में भीषण आग, 6 की मौत, 28 घायल

Also Read - ‘WhatsApp Chatbot' की हुई शुरुआत, आपके कितने काम का है ये एप, जानें

केजरीवाल ने यह भी कहा कि सरकार 32 तरह की दवाओं का ऑर्डर दे रही है ताकि उनका दो महीने का ‘बफर स्टॉक’ तैयार किया जा सके और कर्मियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि होम क्वारेंटाइन से संबंधित तैयारी भी की जा रही है. राष्ट्रीय राजधानी को अप्रैल और मई में महामारी की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन संकट से जूझना पड़ा था. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने 442 मीट्रिक टन चिकित्सीय ऑक्सीजन की अतिरिक्त भंडारण सुविधा तैयार की है, जो पिछली लहर के दौरान नहीं थी. Also Read - Covid 19: जिन लोगों को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है उनमें से 96 फीसद ने वैक्सीन नहीं लगवाई

उन्होंने कहा, ‘हमारे पास ऑक्सीजन उत्पादन की शून्य क्षमता थी. हमने पीएसए संयंत्र स्थापित किए हैं जो 121 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन कर सकते हैं. पिछली बार, अस्पताल ऑक्सीजन के लिए एसओएस संदेश भेज रहे थे. हमने दिल्ली के सभी ऑक्सीजन टैंक में टेलीमेट्री उपकरण लगाने का निर्देश दिया है, ताकि हमारे वॉर रूम को पता चल सके कि ऑक्सीजन कहां खत्म हो रही है.’

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने चीन से 6,000 सिलेंडर आयात किए हैं और तीन निजी ‘रीफिलिंग’ संयंत्र हैं जो प्रति दिन 1500 सिलेंडर भर सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘हमने दो बॉटलिंग संयंत्र लगाए हैं जो दैनिक आधार पर 1400 सिलेंडर भर सकते हैं.’

उधर, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने मंगलवार को कहा कि सरकार ‘ओमीक्रोन’ से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है. उन्होंने बताया कि ऐसे मामले सामने आने पर इसके लिए लोक नायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में एक समर्पित केंद्र स्थापित किया गया है. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने ‘उच्च खतरे’ वाले देशों से आने वाले सभी लोगों की आरटी पीसीआर जांच करने, संक्रमण की पुष्टि होने पर जीनोम सिक्वेंसिंग करने और केंद्र सरकार के दिशा निर्देशों के अनुसार, यात्रियों को अनिवार्य रूप से पृथक-वास में भेजने का निर्णय लिया है.

जैन ने ट्वीट किया, ‘दिल्ली सरकार कोरोना वायरस के नए प्रकार ओमीक्रोन से लड़ने के लिए पूरी तरह तैयार है, जिसे डब्ल्यूएचओ ने ‘चिंताजनक प्रकार’ बताया है. कोरोना वायरस के नए प्रकार के इलाज के लिए लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल को निर्दिष्ट किया जाता है.’ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने मंगलवार को संसद में कहा कि भारत में अभी तक ओमीक्रोन के संक्रमण का कोई मामला सामने नहीं आया है.

(इनपुट: ANI, भाषा)