Oxygen, Sir Ganga Ram Hospital, Delhi, covid-19, coronavirus, News: दिल्‍ली के सर गंगाराम अस्‍पताल (Sir Ganga Ram Hospital) में शनिवार को रात ऑक्‍सीजन पर करीब 100 मरीज थे और इसकी आपूर्ति महज 45 मिनट के लिए बची थी. इस स्थिति को देखते हुए सर गंगाराम अस्पताल (एसजीआरएच) ने जीवन रक्षा संदेश (एसओएस) भेजते हुए शनिवार रात कहा कि उसके पास केवल करीब 45 मिनट तक आपूर्ति के लिए ऑक्सीजन बची है और 100 से अधिक मरीजों का जीवन जोखिम में है. इस संदेश के मिलने के बाद अस्‍पताल को रात में ही करीब 12 बजकर 20 मिनट पर अस्पताल को एक टैंकर मिला जिससे एक मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिली. इसकेे बाद  सुबह चार बजकर 15 मिनट पर 5 मीट्रिक टन ऑक्सीजन अस्‍पताल को उपलब्‍ध कराई गई .Also Read - TRAVEL: बारिश के मौसम में जरूर घूमिये दिल्ली की ये 5 जगहें, मौज-मस्ती में नहीं आएगी कोई कमी

सर गंगा राम अस्पताल के प्रवक्‍ता ने कहा, ”सर गंगाराम अस्पताल को सुबह चार बजकर 15 मिनट पर 5 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिली, जिससे 11-12 घंटों तक काम चलना चाहिए. लंबे वक्त के बाद ऑक्सीजन पूरी क्षमता के साथ दी जा रही है.” Also Read - सऊदी अरब में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले, भारत समेत इन देशों में यात्रा करने पर लगा प्रतिबंध

Also Read - अब सऊदी अरब नहीं जा पाएंगे इन 15 देशों के टूरिस्ट, जानिए वजह

बता दें कि बीते शुक्रवार यानि 23 अप्रैल को सर गंगाराम अस्‍पताल ने बताया था कि उसके 25 कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई है. कोरोना वायरस संक्रमण की सुनामी से जूझ रहे देश भर के अस्‍पतालों में ऑक्‍सीजन (oxygen) की कमी का सामना करना पड़ा रहा है और जीवन रक्षक वायु ऑक्‍सीजन की कमी के चलते अभी तक कई अस्‍पतालों में बहुत से मरीजों की सांसें थम चुकी हैं.

शनिवार की रात को अस्पताल ने कहा कि उसने पिछले 24 घंटे में कम से कम चार एसओएस भेजे हैं और वह संकट की स्थिति में है. अस्पताल ने कहा कि उसके पास केवल करीब 500 घन मीटर ऑक्सीजन बची है, जो करीब 45 से 60 मिनट ही चलेगी और 100 से अधिक मरीजों का जीवन खतरे में है. उसने बताया कि अस्पताल में रोजाना 10,000 घट मीटर तरल ऑक्सीजन की खपत होती है.

गंगाराम में 25 कोविड-19 मरीजों की मौत हुई थी
गंगाराम अस्पताल को पिछले कुछ दिन से टैंकरों के जरिए ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है और वह स्वयं के ऑक्सीजन संयंत्र लगाने के भी प्रयास कर रहा है. इससे एक दिन पहले अस्पताल ने बताया था कि उसके 25 कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई. सूत्रों ने बताया कि अस्पताल में इन मरीजों की मौत का कारण कम दबाव की ऑक्सीजन हो सकती है.

दिल्ली के जयपुर गोल्डन अस्पताल में कल हुई थी 20 मरीजों की मौत
ऑक्सीजन की कमी को लेकर पैदा हुए गंभीर संकट के बीच कल शनिवार को दिल्ली के जयपुर गोल्डन अस्पताल में अत्यंत बीमार 20 मरीजों की ऑक्सीजन नहीं मिलने से मौत हो गई. दिल्‍ली बीते 5-6 दिनों से कोविड-19 के गंभीर मरीजों के लिए ऑक्सीजन का संकट बना हुआ है.

सोशल मीडिया पर अस्‍पताल ऑक्‍सीजन के लिए गुहार लगाते दिखे
दिल्‍ली और उसके आस-पास के अस्पताल, गंगा राम और मैक्स हेल्थ केयर से लेकर छोटे अस्पताल भी, पिछले कुछ दिनों से हर कुछ घंटों पर सोशल मीडिया और अन्य मंचों पर मदद की गुहार लगाते हैं और ऑक्सीजन का भंडार खत्‍म होने की जानकारी देते हैं.

हाईकोर्ट ने कहा था- आपूर्ति बाधित हुई तो फांसी पर लटका देंगे
मदद की उम्मीद में कुछ अस्पतालों ने दिल्ली हाईकोर्ट तक का रुख कर लिया, जिसने बढ़ते मामलों को सुनामी करार दिया. अदालत ने दिल्ली सरकार से कहा कि वह ऑक्सीन आपूर्ति बाधित होने का एक भी मामला बताए. अदालत ने कहा, हम उस व्यक्ति को लटका देंगे.

 गुरु तेग बहादुर अस्पताल ने कोविड बिस्तरों की संख्या घटा दी
इस बीच दिल्ली सरकार द्वारा संचालित गुरु तेग बहादुर अस्पताल ने शनिवार को कोविड बिस्तरों की संख्या 986 से घटाकर 700 कर दी. ऐसा करने वाला यह दिल्ली का दूसरा अस्पताल है. इससे पहले शुक्रवार को सबसे बड़े और प्रतिष्ठित अस्पतालों में से एक गंगाराम अस्पताल में 25 मरीजों की ऑक्सीजन के कम दबाव की वजह से मौत हो गई थी.