Supreme Court judge Justice Mohan M. Shantanagoudar passed away . Delhi,  NEWS:  नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति मोहन एम शांतनागोदर का शनिवार देर रात गुरुग्राम के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया. वह 62 वर्ष के थे. सूत्रों ने यह जानकारी दी.Also Read - जज संन्यासी नहीं, वे भी कई बार काम का दबाव महसूस करते हैं: जस्‍ट‍िस एलएन राव

सूत्रों ने बताया कि न्यायमूर्ति शांतनागोदर को फेफड़े में संक्रमण के चलते मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था और वह आईसीयू में थे. सुप्रीम कोर्ट के एक अधिकारी ने न्‍यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा को बताया कि शनिवार देर रात तक उनकी हालत स्थिर बताई गई थी. Also Read - ज्ञानवापी मामले की सुनवाई जिला न्यायाधीश करेंगे, सुप्रीम कोर्ट ने आदेश देकर कहीं ये बातें

Also Read - हैदराबाद में रेप के चारों आरोपियों की फर्जी मुठभेड़ में मारा गया था, 10 पुलिसकर्मियों पर मुकदमा चले: जांच आयोग

अधिकारी ने बताया कि हालांकि, देर रात करीब 12:30 बजे उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने परिवार को यह दुखद समाचार दिया. सूत्रों ने न तो इसकी पुष्टि की और न ही इससे इनकार किया कि न्यायाधीश कोरोना वायरस से संक्रमित थे या नहीं.

न्यायमूर्ति शांतनागोदर को 17 फरवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के तौर पर पदोन्नत किया गया था. उनका जन्म 5 मई 1958 को कर्नाटक में हुआ था. उन्होंने पांच
सितंबर 1980 को एक वकील के तौर पर पंजीकरण कराया था. उच्चतम न्यायालय में पदोन्नत किए जाने से पहले न्यायमूर्ति शांतनागोदर केरल उच्च न्यायालय के मुख्य
न्यायाधीश रहे.