दिल्ली: देश में तेजी से बढ़ते कोविड19 के संक्रमण के बीच विरोधी दलों के बीच सियासी जंग भी नजर आ रही है. अब बीजेपी सरकार और  विपक्षी दल कांग्रेस के बीच यह देखने को मिल रहा है.  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री (Union Health Minister) डॉ. हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने   कोविड-19 प्रबंधन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को पत्र लिखने वाले वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व मनमोहन सिंह ( Ex-PM Manmohan Singh) पर आज पलटवार किया है.Also Read - यह सरकार जनता के जनादेश की है, जो 2.5 साल पहले किन्हीं कारणों से नहीं बन पाई थी: सीएम एकनाथ शिंदे

हर्षवर्धन ने मनमोहन सिंह को ट्वीट किए गए एक पत्र में दावा किया, ”डॉ. मनमोहन सिंह जी अगर आपकी सकारात्मक सहयोग की पेशकश और मूल्यवान सलाह को ऐसे कठिन समय में आपके कांग्रेस के नेता ही मान लें तो इतिहास आपका आभारी होगा.” डॉ. हर्षवर्धन ने दावा किया, ”ऐसा नहीं लगता कि आपकी पार्टी में और राज्यों में आपकी पार्टी की सरकारों में जिम्मेदार पदों पर बैठे लोग आपके विचारों से सहमत हैं. Also Read - भारत ने अपनी 90% वयस्क आबादी का पूर्ण टीकाकरण किया: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मंडाविया

Also Read - पीएम मोदी के हेलिकॉप्टर के उड़ान भरते ही कांग्रेस के प्रदर्शनकारियों ने काले गुब्बारे छोड़े, देखें वीडियो

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सोमवार को आरोप लगाया कि वैश्विक महामारी की दूसरी लहर के लिए कांग्रेस शासित राज्य जिम्मेदार हैं, जो कथित रूप से लोगों के टीकाकरण के बजाए टीकों पर संदेह जताने में व्यस्त थे.

उल्लेखनीय है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने देश में कोविड-19 के हालात से निपटने के लिए रविवार को पांच उपाय सुझाते हुए प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी को पत्र लिखा था और इस बात पर जोर दिया था कि महामारी से मुकाबले के लिए टीकाकरण तथा दवाओं की आपूर्ति बढ़ाना महत्वपूर्ण होगा. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए हर्षवर्धन ने दावा किया कि मनमोहन सिंह के पत्र तैयार करने वाले लोगों ने उनकी साख को नुकसान पहुंचाया है.

हर्षवर्धन ने मनमोहन सिंह को ट्वीट किए गए एक पत्र में दावा किया, ” डॉ. मनमोहन सिंह जी अगर आपकी सकारात्मक सहयोग की पेशकश और मूल्यवान सलाह को ऐसे कठिन समय में आपके कांग्रेस के नेता ही मान लें तो इतिहास आपका आभारी होगा.” केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने दावा किया, ” ऐसा नहीं लगता कि आपकी पार्टी में और राज्यों में आपकी पार्टी की सरकारों में जिम्मेदार पदों पर बैठे लोग आपके विचारों से सहमत हैं.