बॉलीवुड एक्टर आमिर खान की पहचान हिन्दी सिनेमा में बड़ा बदलाव लाने वाले अभिनेता के तौर पर है और वह ऑस्कर नॉमिनेशन पाने वालों में भी शुमार हैं. आमिर ने यह खुलासा किया कि शुरू में उन्हें ‘लगान’ फिल्म का विचार पसंद नहीं आया था, क्योंकि उन्हें इसकी कहानी थोड़ी ‘‘अजीब’’ लगी थी. आशुतोष गोवारिकर के निर्देशन में खेल की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म को समीक्षकों से काफी तारीफ मिली. वर्ष 2001 में आई यह फिल्म बेहद सफल भी रही. इतना ही नहीं यह फिल्म अकादमी पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म कैटेगिरी के लिये नॉमिनेटिड भी हुई.Also Read - Viral Video: T20 World Cup 2021 से पहले ‘Maaro, Mujhe Maaro’ वाले Momin Saqib की वीडियो फिर हुई Viral | Watch

Also Read - Aamir Khan की पटाखों वाली एड पर हुआ बवाल, BJP सांसद ने भी साधा निशाना

maxresdefault (3)Also Read - दिवाली पर पटाखों को लेकर आमिर खान के विज्ञापन पर मचा बवाल, भाजपा सांसद बोले- हिंदुओं में गुस्सा है

इंडियन स्क्रिप्टराइटर्स एसोसिएशन के दूसरे संस्करण से अलग आमिर ने कहा, ‘‘जब मैंने ‘लगान’ की कहानी सुनी तो पांच मिनट बाद ही मैंने इसे नकार दिया…जब मैंने सुना कि यह फिल्म ऐसे लोगों की कहानी है जो बारिश नहीं होने के कारण ‘लगान’ नहीं चुका पा रहे हैं और फिर वे ब्रिटिश लोगों के साथ क्रिकेट खेलते हैं. मैंने सोचा ‘‘ये कैसी अजीब सोच है?’’ मैंने आशुतोष से कहा, ‘‘यह बहुत अजीब कहानी है. मैंने उनसे कुछ अलग कहानी लाने के लिए कहा.’’

708771-aamir-khan-lagaan

तीन महीने बाद गोवारिकर ने उसी कहानी के साथ आमिर से फिर संपर्क किया लेकिन उस वक्त तक वह पूरी स्क्रिप्ट लिख चुके थे. आमिर ने कहा कि शुरू में वह चिढ़े, लेकिन गोवारिकर ने इस काम को जारी रखा. उन्होंने कहा, ‘‘जब मैंने कहानी सुनी, तब मैं उसमें खो गया. ‘लगान’ की अंतिम स्क्रिप्ट मुझे बेहद पसंद आई और मुझे यह अविश्वसनीय लगा. मैंने उनसे कहा कि यह लाजवाब कहानी है और मुख्यधारा सिनेमा का रिकॉर्ड तोड़ेगी. लेकिन मैं इसके लिये हां कहने से डर रहा हूं. मैं इसे नहीं कर सकता.’’

download

इसके बाद आमिर ने गोवारिकर को फिल्म के लिये अन्य अभिनेताओं से संपर्क करने को कहा और फिल्म की स्क्रिप्ट में कुछ बदलाव करने का सुझाव दिया. इस वाकये को एक साल बीत गया, लेकिन अब आमिर के मन में यह अंदेशा आने लगा कि वह एक अच्छी फिल्म छोड़ रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं अक्सर यही सोचता कि मैं यह फिल्म क्यों नहीं कर रहा हूं?’’

CYxBV28UwAM2Tvz

आमिर ने कहा कि खतरा मोल लेने का साहस रखने वाले बिमल रॉय और गुरुदत्त जैसे फिल्मकारों से प्रभावित होने के कारण मैंने फिल्म करने का फैसला किया. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने आशुतोष को यह कहानी अपने माता पिता को सुनाने के लिये कहा. कहानी सुनकर उनकी आंखें भर आईं और उन्होंने मुझसे कहा कि मुझे यह फिल्म करनी चाहिए. और…बाकी सबकुछ आपके सामने है, जैसा कि लोग कहते हैं कि फिल्म ने इतिहास रच दिया.’’

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.