मुंबई: अभिनेता आमिर खान के करियर का ग्राफ भले ही ‘ कयामत से कयामत तक ’ फिल्म से काफी ऊंचा उठ गया हो, लेकिन वह खुद मानते हैं कि वह इस फिल्म में अपने अभिनय से खुश नहीं थे. यह रोमांटिक ड्रामा फिल्म 29 अप्रैल 1988 को रिलीज हुई थी और यह क्लासिक दुखांत प्रेम कहानी रोमियो एंड जुलियट का आधुनिक रूप था. इस फिल्म से आमिर खान और जूही चावला सुपरस्टार हो गए थे.

इस फिल्म के 30 साल पूरे होने के मौके पर इसकी विशेष स्क्रीनिंग शनिवार रात को हुई थी. इस मौके पर इस फिल्म के निर्देशक मंसूर खान, संगीतकार आनंद मिलिंद सहित अन्य कलाकार मौजूद थे.

आमिर ने एक कार्यक्रम में कहा, “जब मैं अपना काम देखता हूं कि मुझे इसको देखकर खुशी नहीं होती. मैं महसूस करता हूं कि यह और अच्छा हो सकता था. खास तौर पर इस फिल्म में मुझे जूही का काम अच्छा लगा था. उन्होंने बहुत अच्छा अभिनय किया. फिल्म के कुछ दृश्यों में मैंने ठीक-ठाक काम किया था और और कुछ में नहीं.”

1988 में रिलीज हुई कयामत से कयामत तक बॉलीवुड की सबसे लोकप्रिय फिल्‍मों में शामिल है. फिल्‍म के रिलीज होने के बाद आमिर और जूही चावला बॉलीवुड में स्‍थापित एक्‍टर्स में शामिल हुए थे.