मुंबई: बॉलीवुड की दुनिया में अपनी अदाकारी के लिए मशहूर एक्टर अभय देओल ने सामाजिक मुद्दों के अलावा फ़िल्मी मुद्दों पर भी बड़े बेबाक अंदाज़ से हमेशा अपनी बात रखी है. इस बार अभय देओल ने बॉलीवुड पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि फिल्म उद्योग में प्रचलित “भ्रष्ट आचरण के बारे में कोई भी फिल्म बना सकता है.” अभय ने अपनी 2012 की फिल्म ‘शंघाई’ की शूटिंग को याद करते हुए इंस्टाग्राम पर यह बातें लिखीं. फिल्म राजनीति में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर इर्द-गिर्द घूमती है. Also Read - कोरोना पॉजिटिव अमिताभ बच्‍चन की सेहत पर नानावती हॉस्‍पिटल का बयान आया सामने

उन्होंने लिखा, ‘शंघाई’ 2012 में रिलीज हुई थी और एक समकालीन भारतीय लेखक वासिलिस वसिलिकोस के ग्रीक उपन्यास ‘जेड’ पर आधारित है. दिबाकर बनर्जी द्वारा निर्देशित यह फिल्म राजनीति और केंद्र में प्रणालीगत भ्रष्टाचार के बारे में है. यह आज भी काफी प्रासंगिक है. इन दिनों कोई भी बॉलीवुड की भ्रष्ट प्रथाओं के बारे में फिल्म बना सकता है.” Also Read - मुंबई में रेखा का बंगला सील, क्‍या एक्‍ट्रेस भी कोरोना संक्रमित? सिक्युरिटी गार्ड निकला पॉजिटिव

  Also Read - सनी देओल की फि‍ल्‍म 'अर्जुन पंडित' से प्रभावित था विकास दुबे, पुलिसकर्मियों के बीच जाना जाता था 'पंडित'

View this post on Instagram

 

“Shanghai”, released in 2012. A contemporary Indian take on the Greek novel “Z” by author Vassilis Vassilikos. Directed by Dibakar Banerji this film puts systemic corruption in politics front and center, with devastating impact. Extremely relevant today. Looks like these days one could make a film about the corrupt practices of Bollywood! By the way, not sure if the current outrage will give rise to an independent Hindi film and music industry, without the unoriginal tag of “Bollywood”, but it sure feels good to hear loud voices from within the industry, risking their careers for the bigger “picture” (pun intended 😊). (@priyasreedharan we gotta make another movie! What’s Wasim Khan’s Instagram handle?). #makingwhatbollywouldnt

A post shared by Abhay Deol (@abhaydeol) on


अभय ने सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद बॉलीवुड के भीतर की कुरूपता को उजागर करने वाले लोगों की प्रशंसा की. उन्होंने कहा, “वैसे इस बारे में मैं कह नहीं सकता कि लोगों में अभी जो नाराजगी है, वह ‘बॉलीवुड’ के अनौपचारिक टैग के बिना एक स्वतंत्र हिंदी फिल्म और संगीत उद्योग को जन्म देगी. लेकिन निश्चित रूप से यह सुनने में अच्छा लगता है कि लोग बड़े मकसद के लिए अपना करियर खतरे में डालकर इस बारे में आवाज उठा रहे हैं.”

 

View this post on Instagram

 

1st time out in a looooong time! Only to buy essentials (yes sometimes I do my own shopping 🙄). What’s essential to you?

A post shared by Abhay Deol (@abhaydeol) on

बता दें कि हाल ही में, गायक सोनू निगम और अदनान सामी, अभिनेता रणवीर शौरी और साहिल खान आदि बॉलीवुड की उन हस्तियों में शामिल हुए हैं जो बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद और सत्ता के खेल के बारे में बात कर रहे हैं.