फिल्म जगत में 35 साल के करियर और 400 से अधिक फिल्में करने के बाद कॉमेडियन और कैरेक्टर आर्टिस्ट जगदीश का कहना है कि वह अब पहली बार फिल्म का निर्देशन करने के लिए ‘मानसिक तौर पर’ तैयार हैं.

जगदीश ने कहा कि पिछले कई सालों में उन्होंने कई भूमिकाएं बदली हैं और हर बार इससे उन्हें प्रसिद्धि मिली है. अब बारी फिल्मों के निर्देशन की है जिसके कुछ ऑफर्स मिले हैं.

Student Of The Year 2: हनीमून बेबी हैं Ananya Panday, शादी के नौ महीने बाद पैदा हुईं

जगदीश ने कहा, “कॉमर्स में पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद मैंने अपने करियर की शुरुआत की. पहले बैंक में एक अधिकारी के रूप में काम किया और उसके बाद कॉलेज में टीचर के पद पर कार्यरत रहा. इसके बाद मैं एक सेट से दूसरे सेट को जाने लगा. मैंने फिल्मों की स्क्रीप्टिंग की और टेलीविजन से मिले ऑफर्स को भी लिया.”

उनके करियर में एक झटका तब लगा जब साल 2016 के विधानसभा चुनाव में पाथानापुरम विधानसभा क्षेत्र से एक कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में वह अपने सह-कलाकार कर्मी और तीन बार के विधायक के.बी. गणेश कुमार को रोकने में विफल रहे.

जगदीश ने कहा, “फिल्म इंडस्ट्री में इतना लंबा वक्त बिताने के बाद जहां मेरा करियर काफी हद तक सफल रहा, मेरे शुभचिंतकों द्वारा हमेशा मुझसे कहा जाता रहा है कि यही वह समय है जब मैं निर्देशन करूं. इस बारे में थोड़ा सोचने के बाद मुझे भी ऐसा लगा कि हां, मैं यह करूंगा और मैं इसके लिए तैयार हो रहा हूं.”

साल 1984 में ‘माई डियर कुत्तिचाथान’ से शुरुआत करने के बाद जगदीश ने अब तक 40 फिल्मों में मुख्य भूमिका निभाई है और दर्जनों फिल्मों की पटकथाएं लिखीं हैं जिनमें ‘मजह पेयुन्नू मद्दालम कोट्टन्नू’ और ‘मिंडा पूच्चाककु कल्याणम’ जैसी फिल्में शामिल हैं.

 

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.