बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता-निर्माता संजय खान की आत्मकथा ‘द बेस्ट मिस्टेक्स ऑफ माई लाइफ’ के लॉन्च के मौके पर जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला चीफ गेस्ट के तौर पर पहुंचे. कार्यक्रम के दौरान ऐसा पल भी आया जब संजय खान भावुक हो उठे. इस इवेंट में संजय की संतानों जायद, सुसेन, सिमोन और फरह के साथ-साथ उनकी पत्नी जरीन भी मौजूद थीं.

परिवार की करीबी मित्र दिया मिर्जा रविवार को आयोजित हुए कार्यक्रम की मेजबान थीं. उन्होंने अभिनेता के जीवन के कई पहलुओं से रूबरू कराया. संजय ने कहा, “मेरे लिए यह बहुत भावुक क्षण है. मैंने कभी जीवनी लिखने के बारे में नहीं सोचा था..लेकिन, जीवनी लिखने के दौरान मुझे कई पलों को दोबारा जीने का मौका मिला और मुझे मेरे जीवन, मेरे दोस्तों और उन सभी की अहमियत बताई जो मेरे साथ खड़े रहे.”

hema-1

उन्होंने किताब से अपने मार्गदर्शक और प्रेरणा दिवंगत राज कपूर से संबंधित एक अंश भी पढ़ा. संजय ने अपनी जीवनी में बॉलीवुड और इससे बाहर के अपने सफर का वर्णन किया है. संजय ने 40 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय किया, ‘चांदी सोना’ और ‘काला धंधा गोरे लोग’ जैसी फिल्मों तथा ‘स्वोर्ड ऑफ टीपू सुल्तान’ जैसे टीवी शो का निर्माण और निर्देशन किया है.

उन्होंने कहा, “‘बेस्ट मिस्टेक्स ऑफ माइ लाइफ’ को आप सामान्य भाव से नहीं पढ़ सकते. इसमें मैंने अपने जीवन के अनुभवों को उतार दिया है और कुछ विशेष हिस्सों को लिखा है जो मेरी किताब के 18वें चैप्टर में हैं. यह किताब के शीर्षक का वर्णन करते हैं और पाठक को पूर्ण संतुष्टि देते हैं. यह प्रतीकात्मक है.” संजय ने कहा कि उन्होंने अपनी सभी अभिनेत्रियों का उल्लेख किया है, जिनमें नंदा भी हैं, जिनके साथ उन्होंने ‘वो दिन याद करो’, ‘बेटी’ और ‘अभिलाषा’ में अभिनय किया है.

अन्य अतिथियों में शत्रुघ्न सिन्हा, हेमा मालिनी, दिया मिर्जा, साहिल संघा, नीलम कोठारी, समीर सोनी, सिमोन अरोरा, पूनम ढिल्लो, कबीर बेदी और अपूर्व लखिया जैसी फिल्मी हस्तियों के अलावा लेखक फारूक ढोंडी और सुनील अलग भी थे.

(इनपुट आईएएनएस)