अपनी दिलकश आवाज से लोगों को दीवाना बनाने वालीं अल्का याग्निक 20 मार्च को अपना 52वां जन्मदिन मना रही हैं. अल्का याग्निक को भारत की सर्वश्रेष्ठ प्लेबैक सिंगर के तौर पर कई नेशनल अवॉर्ड मिल चुके हैं. अल्का याग्निक का जन्म 20 मार्च, 1966 को पश्चिम बंगाल के कोलकाता में हुआ. उनकी माता सुभा याग्निक भारतीय शास्त्रीय संगीत की गायिका थीं. अल्का की शिक्षा कोलकाता में ही हुई. उनकी आवाज के जादू को देखते हुए उन्हें छः साल की उम्र में ही ऑल इंडिया रेडियो के लिए गाने का मौका मिला.Also Read - वरुण धवन के अंडरवियर एड पर मचा बवाल, यूजर्स बोले- अश्लीलता फैलाने में शर्म नहीं आती


10 साल की उम्र में वो अपनी मां के साथ मुंबई आ गईं और फिल्म मेकर राज कपूर से मिलीं. राज कपूर को अलका की आवाज बहुत पसंद आई और उन्हें लक्ष्मीकांत प्यारेलाल से मिलवाया. अल्का ने प्लेबैक सिंगर के रूप में अपने करियर की शुरुआत 1979 में आई फिल्म ‘पायल की झंकार’ से की थी. Also Read - Sidharth Shukla Dead: नशा और गुस्सा नहीं छोड़ पा रहे थे सिद्धार्थ शुक्ला, जुड़े हैं कई विवाद


‘एक दो तीन’ के बाद अलका अब तक करीब 700 फिल्मों में 20 हजार से ज्यादा गाने गा चुकी हैं. अलका ने 1989 में नीरज कपूर से शादी कर ली थी, हालांकि वह पिछले 25 साल से अपने पति से अलग रह रही हैं. दोनों के अलग रहने की वजह कोई लड़ाई-झगड़ा नहीं, बल्कि अपना-अपना काम है. दोनों डिफरेंट फील्ड से हैं इसलिए दोनों ने यह निश्चय किया कि वह अलग-अलग रहकर अपने काम पर फोकस करेंगे. Also Read - Himesh Reshammiya ने अलका याग्निक और कुमार शानू के साथ निकाला एल्बम, पहले गाने में है बस मोहब्बत


अल्का ने हिंदी के अलावा तमाम भारतीय भाषाओं में कई हिट दिए हैं. ‘खलनायक’ (1993) के उनके गाये गीत ‘चोली के पीछे क्या है’ पर बहुत ही बवाल मचा था. तब लगभग 42 पॉलिटिकल पार्टियों ने इस गीत के खिलाफ आंदोलन चला कर इसका विरोध किया था. अल्का का मानना है कि बॉलीवुड में गानों की मधुरता खो गई है और उसकी जगह फूहड़ता ने ले ली है.  खैर वजह कुछ भी हो, इंडस्ट्री को अलका जैसी सिंगर की आज भी जरूरत है.