लघु फिल्म बनाने वाले उल्हास पीआर ने मंगलवार को अभिनेता आमिर खान के देश में “बढ़ती निराशा” के बयान पर उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत दिल्ली के न्यू अशोक नगर थाने में दर्ज कराई गई है।उल्हास ने आईएएनएस से कहा, “हमारी कुछ बुनियादी जिम्मेदारियां हैं..जो कहती हैं कि हमें राष्ट्र में सौहार्द्र बनाना चाहिए। इसलिए जब हस्तियां इस तरह का बयान देती हैं तो उन्हें पहले यह बताना चाहिए कि वे किस समाज के बारे में बात कर रहे हैं, जहां लोग भय के माहौल में रह रहे हैं?”उल्हास ने इससे पहले आमिर के खिलाफ फिल्म ‘पीके’ की रिलीज के बाद भी शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने फिल्म में पुलिसवालों को “ठुल्ला” कहने को शिकायत का आधार बनाया था। यह भी पढ़े – आमिर खान को अचानक क्यों अतुल्य भारत में असहिष्णुता नजर आने लगी?

उल्हास ने कहा, “सेलेब्रिटी को कोई बात कहने से पहले अपनी हैसियत और जिम्मेदारियों के बारे में सोचना चाहिए। अगर वे देश में शांति और खुशहाली नहीं ला सकते तो उन्हें असहिष्णुता और अन्य मुद्दों पर बोलकर लोगों को डराना नहीं चाहिए।”आमिर ने यहां सोमवार को एक कार्यक्रम में कहा था, “मुझे लगता है कि बीते छह से आठ महीनों के अंदर देश में निराशा बढ़ी है। किरण (आमिर की पत्नी) और मैंने पूरी जिंदगी भारत में बिताई है। मैं घर में था और किरण ने पहली बार पूछा, ‘क्या हमें देश छोड़कर चले जाना चाहिए?’ यह मेरे लिए बहुत बड़ी और डरावनी बात थी।”आमिर ने कहा कि उनकी पत्नी अपने बच्चे को लेकर चिंतित है। उन्होंने कहा, “यह खतरे की घंटी तो है ही, साथ ही इससे असंतोष और निराशा का भी पता चलता है। ऐसे में आप बहुत हताश महसूस करते हैं। आप सोचते हैं कि ऐसा क्यों हो रहा है।”आमिर के बयान की भाजपा, अनुपम खेर, परेश रावल, अशोक पंडित ने आलोचना की है। कांग्रेस और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इसका समर्थन किया है।