फिल्म निर्माता पान नलिन का कहना है कि उनकी आगामी फिल्म ‘एंग्री इंडियन गोडेसेस’ पुरुषों को नीचा नहीं दिखाती, बल्कि यह नारीत्व की प्रशंसा करती है। फिल्म के मुख्य किरदारों में केवल महिलाएं हैं। फिल्म के ट्रेलर के अनावरण के मौके पर नलिन ने कहा, “फिल्म पुरुषों की आलोचना नहीं करती। फिल्म में कई पुरुष भी हैं। इसमें एक प्रेम कहानी भी है और इसमें महिलाओं और नारीत्व की प्रशंसा की गई है।”

नलिन ने कहा, “आप भारत में किसी भी लड़की से बात करके देखें दस-पंद्रह मिनटों में ही आप उनकी परेशानियों के बारे में जान जाएंगे या जान जाएंगे कि वे किसी बात से नाराज या दुखी हैं। अगर सात-आठ लड़कियां इकठ्ठी हो जाएं तो जाहिर है कि वे अपने मुद्दों के बारे में ही बात करेंगी।”

विवाद के बारे में पूछे जाने पर नलिन ने कहा, “मुझे लगता है कि जोखिम के बिना कभी बदलाव संभव नहीं हुआ है। अगर हमें यह करना है तो हमें इससे हर हाल में लड़ना ही होगा।” यह भी पढ़े – Pyar ka Panchnama 2 movie review: फिल्म में देखने के लिए कुछ नया नहीं

नलिन ने कहा, “फिल्म निर्माण के लिए हमें हर मसले में लड़ना पड़ा है। फिल्म के लिए पैसा जुटाने से लेकर उसके प्रदर्शन तक हर मामले में हमें संघर्ष का सामना करना पड़ा है।”

फिल्म सात लड़कियों की कहानी है। इसमें दिखाया गया है कि इसकी एक किरदार फ्रीडा अपनी खास सहेलियों को अपनी शादी की घोषणा के लिए आमंत्रित करती है, लेकिन बाद में यह एक रोमांचक बैचलरेट पार्टी में तब्दील हो जाता है।

भावनात्मक उतार-चढ़ाव लिए इस फिल्म में रोमांच, उलझन और कई परेशानियों के बीच कहानी आगे बढ़ती है और इन परेशानियों के बीच सातों लड़कियां ‘एंग्री इंडियन गोड्डेसेस’ यानी रोष से भरी भारतीय देवियां बन जाती हैं।

फिल्म में संध्या मृदुल, सारा-जेन डायस, तन्निष्ठा चटर्जी, अमृत मघेरा, राजश्री देशपांडे, पवलीन गुजराल और अनुष्का मनचंदा शामिल हैं।

नलिन ने कहा कि बिना किसी गंभीर संदेश के यह एक मनोरंजक फिल्म है। फिल्म 12 नवंबर को रिलीज की जाएगी।