नई दिल्ली: मशहूर सितार वादक अनुष्का शंकर ने अपना यूट्रस सर्जरी के जरिए निकलवा दिया है. इस बात का खुलासा उन्होंने सोशल नेटवर्किंग साइट पर किया है. साथ ही उन्होंने लिखा है कि पिछले महीने उन्हें दोहरी सर्जरी करनी पड़ी. अब उनके पास यूट्रस नहीं है, क्योंकि उनके पेट में कुल 13 ट्यूमर थे. इसके चलते उनका यूट्रस छह महीने की गर्भवती महिला के सरीखे हो गया था. इसके बाद अब डाक्टरों ने सर्जरी के जरिए उसे निकाल दिया है. बता दें कि इससे पहले उन्होंने दो बेटों को जन्म दिया है.

 

अनुष्का शंकर ने अपनी सर्जरी के बारे में बताते हुए इन बातों को विस्तार से बताया है:-

मेरे पास अब कोई यूट्रस नहीं
सितार वादक अनुष्का शंकर के सोशल मीडिया पेजों पर जाएं तो उसमें एक नोट दिया गया, जिसमें उन्होंने हिस्टेरेक्टॉमी होने की बात कही है. उसने यह कहते हुए अपना नोट शुरू किया कि पिछले महीने की तरह, अब मेरे पास अब कोई यूट्रस नहीं है. मैंने डबल सर्जरी कराई है. क्योंकि यूट्रस की जो समस्या उन्हें थी, उसके चलते वह छह महीने की गर्भवती जैसी दिखती थीं. ऐसे में एक अविश्वसनीय सर्जन ने उनके पेट से कई और ट्यूमर निकाले, जिनकी संख्या 13 थी.

‘सर्जरी में मरने और बच्चों को बिना मां के छोड़ने का डर’
अनुष्का ने लिखा कि कुछ महीने पहले जब मुझे पता चला कि मुझे यूट्रस निकलवाना पड़ेगा तो मैं तनाव में चली गई. अनुष्का ने लिखा कि यूट्रस निकालने की जानकारी ने उन्हें अंदर तक झकझोर दिया. यह एक मेरी औरत होने की पहचान को खोने जैसा था. भविष्य में कोई संतान पैदा न कर पाने का भय था. यही नहीं मुझे इस सर्जरी से पहले लग रहा था कि कहीं मेरी बच्चे बिना मां के ना हो जाएं. अनुष्का ने लिखा कि उन्होंने सर्जरी को लेकर दोस्तों और परिवार से बात की त‌ब जाकर उन्हें पता चला कि कितनी ही ऐसी महिलाएं हैं हिस्टेरेक्टॉमी की सर्जरी कराई है. क्योंकि इससे पहले वह इससे एकदम अनजान थी.

सर्जरी के बारे में क्यों नहीं की जाती है बात?
अनुष्का शंकर ने लिखा है कि उन्हें आश्चर्य है कि अगर सर्जरी इतनी सामान्य थी तो सर्जरी के बारे में बात क्यों नहीं की जाती. जब मैंने पूछा कि तो एक महिला ने जवाब में कहा कि हम हर जगह औरतों से जुड़ी छोटी-मोटी चीजों का प्रचार नहीं करते हैं.

Anoushka Shankar

अब मैं बिल्कुल ठीक हूं
अनुष्का शंकर ने लिखा है कि अब वह बिल्कुल ठीक और स्वस्थ हैं. इस समय अपने घर पर हैं.उन्हें सभी का सहयोग मिला. इसके लिए वह खुद को भाग्यशाली मानती हैं. साथ ही वह लिखती है कि यह सब उन्होंने किसी सलाह के लिए नहीं बताया है. क्योंकि उनकी कहानी बहुत अलग नहीं है. आज के दौर में न जानें कितनी महिलाएं हर दिन ऐसी ही कठिनाइयों से गुजर रही हैं.