महेश भट्ट के निर्देशन में बनी साल 1984 की फिल्म ‘सारांश’ में नजर आ चुके दिग्गज अभिनेता अनुपम खेर ने इस फिल्म की शूटिंग शुरू होने से ठीक 10 दिन पहले फिल्म से निकाले जाने पर निर्देशक को धोखेबाज तक कह डाला था. अनुपम इस बारे में बताते हुए पुरानी यादों में खो गए.

उन्होंने कहा, “मैंने अपना सारा सामना बांधा और सीधे भट्ट सर के घर यह बताने के लिए चला गया कि मैं मुंबई छोड़ने से पहले वास्तव में उनके बारे में क्या सोचता हूं. वह छठी मंजिल पर रहते थे और लिफ्ट काम नहीं कर रही थी. मैं जैसे ही पहुंचा, मैंने उन्हें खिड़की के पास ले जाकर टैक्सी दिखाई, जिसमें मैं यात्रा कर रहा था और उन्हें बताया कि मैंने अपना सारा सामना बांध लिया है और मैं मुंबई छोड़ रहा हूं लेकिन इससे पहले कि मैं जा सकूं, मैं चाहता हूं कि आप जान सकें कि आप दुनिया के नंबर एक धोखेबाज हैं. मैं साथ ही रो भी रहा था, मैं निराश था और डरा हुआ था. गुस्से में मैं उन्हें प्रभावित करने वाली कुछ बातें सुनाना चाहता था, इसलिए मैंने कहा ‘भट्ट साहब आप सच्चाई पर एक फिल्म बना रहे हैं लेकिन आपके अंदर कोई सच्चाई बाकी नहीं रह गई है. आप इस तरह की फिल्म कैसे बना सकते हैं, जब यह झूठ है. मैं एक ब्राह्मण हूं और मैं आपको श्राप देता हूं.”‘

अनुपम ने आगे बताया कि फिर महेश भट्ट ने उन्हें फिल्म ‘सारांश’ में महत्वपूर्ण किरदार में लेने का फैसला कर लिया. बता दें, आज के दौर में बेहतरीन अभिनेता माने जाने वाले अनुपम खेर ने अपने जीवन के अनछुए पहलुओ के बारे में खुलासा किया है. उन्होंने कहा कि एक समय ऐसा भी था, जब उन्हें ऑडिशन देने के लिए घर से भागना पड़ा था और पैसे चुराने पड़े थे. अनुपम ने ‘अर्बन नक्सल्स’ किताब की लॉन्च के मौके पर अपने जीवन के संघर्षो के बारे में खुलासा किया.

उन्होंने कहा, “मैं घर से भाग गया, एक्टिंग क्लास के ऑडिशन के लिए मैंने मां के पर्स से 100 रुपये चुरा लिए. मैं पकड़ा गया और मुझे थप्पड़ खाने पड़े. मेरे माता-पिता सामान्य माता-पिता की तरह थे. छोटी-मोटी बातों के लिए भी मां मुझे पीट देती. पढ़ाई में मैं बहुत खराब था. स्कूल में मेरे 38 प्रतिशत से ज्यादा अंक कभी नहीं आए. खेलों में भी मैं अच्छा नहीं था. एक बार मेरे पीटी टीचर ने मुझे देखा और कहा कि अगर मैं अकेला भी दौड़ूं तो भी मैं दूसरे स्थान पर आऊंगा. मुझ में कुछ भी असाधारण नहीं था.

खैर, अनुपम का भले ही यह दावा हो कि उनमें कुछ भी असाधारण खूबी नहीं है, लेकिन वह जितने बेहतरीन अभिनेता और अच्छे इंसान है, यह उनकी किसी असाधारण खूबी से कम नहीं है.

अभिनेता अनुपम खेर का कहना है कि अवसाद को अभी भी वर्जित माना जाता है और वह अपनी एक छीटी सी कोशिश से इसमें बदलाव की उम्मीद कर रहे हैं. अभिनेता ने यूट्यब पर एक वीडियो रिलीज किया है जिसमें वह अवसाद से निपटने और इस मुद्दे पर बात करने को शर्मिंदगी से न जोड़कर देखने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं.

 

(इनपुट आईएनएस)

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.