नई दिल्ली: देश भर में पिछले कुछ महीनों से नागरिकता विधेयक, एनसीआर और एनपीआर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है. इस प्रदर्शन में छात्रों के साथ-साथ कई पेशेवर लोग भी शामिल हैं. लेकिन बार अगर बॉलीवुड की करें तो इस बिल के पास होने के बाद से वो दो गुटों में बंट गया है. कुछ एक्टर्स का मानना है कि इस विधेयक का समर्थन होना चाहिए वहीं कुछ कलाकार इसका जबरदस्त विरोध कर रहे हैं. इसी सिलसिले में बॉलीवुड दिग्गज नसीरुद्दीन शाह (Naseeruddin Shah)ने भी अपना विरोध एक इंटरव्यू के जरिए दर्ज कराया.

शाह ने एक साक्षात्कार में कहा था, ‘‘ अनुपम खेर (Anupam Kher) जैसे लोग काफी मुखर रहे हैं. और मुझे नहीं लगता है कि उन्हें गंभीरता से लिए जाने की जरूरत है. वह जोकर हैं और एनएसडी और एफटीआईआई का कोई भी उनका समकालीन यह बात कह सकता है कि उनका बर्ताव साइकोपैथिक है. यह उनके खून में है और वह इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते हैं.’’

बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर ने शुक्रवार को ‘ए वेडनसडे’ के अपने सह अभिनेता नसीरुद्दीन शाह द्वारा उन्हें ‘जोकर’ कहे जाने की टिप्पणी का जवाब दिया. शाह ने खेर को ‘जोकर’ बताते हुए कहा था कि उन्हें गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए. खेर भाजपा नीत केंद्र सरकार के मुखर समर्थक रहे हैं. इस पर खेर ने ट्विटर पर एक वीडियो संदेश के जरिए प्रतिक्रिया दी.

खेर ने कहा, ‘‘ हालांकि मैंने कभी भी आपके बारे में कुछ बुरा नहीं कहा था लेकिन अब बोलूंगा. इतना कुछ हासिल करने के बाद अपने अपनी पूरी जिंदगी हताशा में गुजारी. अगर आप दिलीप कुमार साहब, अमिताभ बच्चन, राजेश खन्ना, शाहरुख खान और विराट कोहली की आलोचना कर सकते हैं तो मेरा विश्वास है कि मैं फिर सही कंपनी में हूं.’’

खेर ने कहा, ‘‘ इनमें से किसी ने भी आपके बयान को गंभीरता से नहीं लिया क्योंकि हम सभी जानते हैं कि वर्षों से जिन पदार्थों का सेवन आप कर रहे हैं यह उसकी नतीजा है. आप सही और गलत के बीच अंतर नहीं जानते हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ और आपको पता है क्या कि मेरे खून में क्या है? हिंदुस्तान है. इसे समझें.’’