मुंबई: फिल्‍म डायरेक्‍टर अनुराग कश्यप ने एक्‍ट्रेस पायल घोष के रेप के आरोपों को झूठा बताते हुए शुक्रवार को पुरजोर तरीके से खारिज किया और कहा कि प्राथमिकी में घटना की जो समय बताया गया है, उस दौरान वह देश में ही नहीं थे. वहीं, एक्‍ट्रेस पायल घोष ने शुक्रवार को कहा कि अनुराग कश्यप ने उनके खिलाफ लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों पर अपना बयान देते हुए पुलिस के सामने झूठ बोला है. उन्‍होंने कश्‍यप का नार्को एनालिसिस, लाई डिटेक्‍टर और पोलिग्राफ टेस्‍ट करवाने की मांग की है. Also Read - पायल घोष-अनुराग कश्यप यौन शोषण मामले में अब इस दिग्गज भारतीय क्रिकेटर का आया नाम, जानें पूरा मामला

पायल घोष ने ट्वीट करते हुए लिखा है, ”मिस्‍टर कश्‍यप ने अपने बयान में पुलिस के सामने झूठ बोला है. मेरे वकील आज सत्‍य पाने के लिए मिस्‍टर कश्‍यप का नार्को एनालिसिस, लाई डिटेक्‍टर और पोलिग्राफ टेस्‍ट करवाने के लिए पुलिस स्‍टेशन जा रह हैं न्‍याय के हित के लिए.” Also Read - कोरोना संकट के बीच अयोध्‍या में शनिवार से शुरू होगी रामलीला, राजनीतिक और बॉलीवुड कलाकार लेंगे हिस्सा

मामले में कश्यप से पुलिस की पूछताछ के एक दिन बाद फिल्मकार की वकील ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि कश्यप ने पुलिस को 2013 अगस्त के दौरान फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में श्रीलंका में होने के सबूत दिए हैं. घोष ने 22 सितंबर को वर्सोवा थाने में कश्यप के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. उन्होंने आरोप लगाया है कि कश्यप ने अगस्त 2013 में उनके साथ बलात्कर किया था.

कश्‍यप की वकील प्रियंका खिमानी ने एक बयान में कहा, ”कश्यप ने मामले में सभी आरोपों को खारिज किया है और पुलिस को बयान दर्ज करा दिया है. अपने बयान के समर्थन में पेश कश्यप के सबूत दर्शाते हैं कि घोष की शिकायत एकदम झूठी है. खिमानी ने एक बयान में कहा, कश्यप ने इस बात के सबूत मुहैया कराए हैं कि वह अगस्त 2013 में फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में श्रीलंका में थे. कश्यप ने स्पष्ट रूप से इस कथित घटना के होने और उनके खिलाफ लगाए सभी आरापों को खारिज किया है. उन्होंने कहा कि फिल्मकार का मानना है कि घोष के लगातार बदलते बयानों से ही उनके झूठ का पर्दाफाश हो जाता है.

बता दें कि मुंबई पुलिस ने गुरुवार को आठ घंटे तक पूछताछ करने बाद कश्यप ने कहा था कि वह दृढ़ता से कानूनी रास्ते अपनाएंगे.

बयान में कहा गया है, ”कश्यप ऐसी किसी भी घटना के होने को पूरी तरह खारिज करते हैं और आपराधिक न्याय प्रणाली का दुरुपयोग करने और गुप्त उद्देश्यों के लिए ‘मी टू’ अभियान का इस्तेमाल करने के लिए घोष के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करते हैं. कश्यप को भरोसा है कि सत्य की जीत होगी.

बता दें कि एक्‍ट्रेस पायल घोष ने पिछले महीने ट्वीट कर कश्यप के खिलाफ यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था. इसके बाद, कश्यप के खिलाफ इस सप्ताह वर्सोवा थाने में भादंवि की धारा 376(I), 354, 341 और 342 के तहत मामला दर्ज किया गया था. घोष ने मंगलवार को केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास अठावले के साथ महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की थी और निर्देशक के खिलाफ कार्रवाई की अपील की थी.

पायल घोष ने ट्वीट करते हुए लिखा है, ”मिस्‍टर कश्‍यप ने अपने बयान में पुलिस के सामने झूठ बोला है. मेरे वकील आज सत्‍य पाने के लिए मिस्‍टर कश्‍यप का नार्को एनालिसिस, लाई डिटेक्‍टर और पोलिग्राफ टेस्‍ट करवाने के लिए पुलिस स्‍टेशन जा रह हैं न्‍याय के हित के लिए.”