नई दिल्ली. ऑस्कर विजेता संगीतकार ए.आर. रहमान अपने काम के लिए भले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी ख्याति पा चुके हों, लेकिन उन्होंने खुद को बड़े पैमाने पर अब तक अस्पष्ट ही रखा है. लेकिन जल्द ही उनके जीवन के बारे में हम सबको विस्तृत जानकारी मिलने वाली है. जी हां, ‘मैस्ट्रो ऑफ मद्रास’ के नाम से जाने जाने वाले इस बेहतरीन संगीतकार की जीवनी जल्द प्रकाशित होने जा रही है. उनकी जीवनी उनके जीवन और दर्शन पर प्रकाश डालेगी. अगस्त में बाजार में आ रही उनकी जीवनी ‘नोट्स ऑफ अ ड्रीम: द ऑथराइज्ड बायोग्राफी ऑफ ए.आर. रहमान’ के लेखक चेन्नई निवासी कृष्णा त्रिलोक हैं.

संगीत के सबसे बड़े स्टार की कहानी
कृष्णा त्रिलोक को इस बात का गौरव है कि वे भारतीय संगीत के सबसे बड़े स्टार की कहानी को दुनिया के सामने रखने जा रहे हैं. इसके लिए उन्होंने कठिन मेहनत की है. खासकर आम लोगों के बीच संगीत के अलावा और किसी भी पहलू से अनछुए से रहने वाले ए.आर. रहमान की कहानी को पुस्तक के रूप में लाने पर त्रिलोक खुश हैं. रहमान के जीवन की घटनाओं को इकट्ठा करने के अपने अनुभव बताते हुए त्रिलोक ने कहा, ‘हम सब ऐसी जिंदगी जीने का सपना देखते हैं जो दुनिया को सकारात्मकता की तरफ ले जाए. हम अपने मार्गदर्शन के लिए लगातार ऐसे लोगों का अनुसरण करते हैं, जिन्होंने ऐसा किया है. मेरे लिए यह सम्मान की बात है कि मुझे भारत के सबसे बड़े स्टार में से एक रहमान की कहानी को लोगों के बीच लाने का मौका मिल रहा है. ऐसी कहानी जो प्यार, प्रतिभा और कठिन परिश्रम की शक्ति का सुंदर और प्रेरणादायक साक्ष्य है.’

A-R-Rahman-1

 

विज्ञापन के लिए संगीत से हुई थी शुरुआत
फिल्म ‘रोजा’, ‘बॉम्बे’, ‘ताल’, ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ जैसी प्रसिद्ध और कामयाब फिल्मों के लिए संगीत देने वाले ए.आर. रहमान पर लिखी गई किताब में उनके जीवन की कई अनकही बातों से पर्दा उठाया गया है. इस किताब में बताया गया है कि विज्ञापनों के लिए संगीत देने से अपने सफर को शुरू करने वाले रहमान आज अंतरराष्ट्रीय संगीत मंच पर महान हस्ती हैं. ‘नोट्स ऑफ अ ड्रीम’ को पेंग्विन रेंडम हाउस इंडिया प्रकाशित करेगी और इसमें रहमान की बचपन की यादें, नाटक और सफलता की असामान्य कहानी को बताएगी. किताब के प्रकाशक ने कहा कि किताब में रहमान के साक्षात्कारों के साथ-साथ उनके जीवन में विशेष स्थान रखने वाले लोगों द्वारा बताई गई बातों को शामिल किया गया है.

A-R-Rahman

 

डैनी बॉयल ने लिखी है प्रस्तावना
ए.आर. रहमान की बात हो और उनके संगीत से सजी फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ का जिक्र न हो, ऐसा हो ही नहीं सकता. इस अंतरराष्ट्रीय फिल्म और इससे जुड़ी रहमान की सफलता की कहानी, आज इतिहास है, जिस पर भारतीय सिनेमा हमेशा गर्व करेगा. कृष्णा त्रिलोक ने इन्हीं वजहों से रहमान पर लिखी गई जीवनी में फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ के निर्माता डैनी बॉयल को भी शामिल किया है. रहमान पर लिखी गई जीवनी की प्रस्तावना ऑस्कर अवार्ड विजेता फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ के निर्देशक डैनी बॉयल ने लिखी है. अपनी प्रस्तावना में बॉयल ने संगीतकार ए.आर. रहमान को इन ऊंचाइयों तक पहुंचाने वाले उनके मानवीय गुणों के बारे में बताया है. बॉयल ने प्रस्तावना में लिखा है, ‘उनकी प्रतिभा उनकी भूख, विनम्रता और उदारता से मेल खाती है. एक गीतकार की बुद्धि के सामने सभी नतमस्तक हो जाते हैं. हम संगीत की सेवा में हैं.’

A-R-Rahman-3

 

अपने बारे में किताब से रहमान भी रोमांचित
संगीतकार ए.आर. रहमान को उनकी विनम्रता और संगीत के प्रति निर्बाध साधना के लिए जाना जाता है. खास कार्यक्रमों को छोड़ दिया जाए, तो रहमान सार्वजनिक मंच पर भी कम ही नजर आते हैं. यही वजह है कि आम संगीत प्रेमी सिर्फ और सिर्फ रहमान को उनके संगीत की वजह से ही जानता-समझता है. फिल्मी दुनिया की गॉसिप और अफवाहों से रहमान कोसों दूर रहते हैं. लेकिन अपने जीवन पर लिखी गई किताब के लिए उनके मन में भी उत्साह है. वे भी चाहते हैं कि लोग उनके बारे, उनके काम के बारे में और उनके संगीत के बारे में ज्यादा जानें और समझें. इसलिए अपनी जीवनी पर वे खुलकर बोले. इस पुस्तक के बारे में रहमान ने कहा, ‘जीवन से सुंदर रचना कोई नहीं है. जीवन एक संगीत है जिसे हम अपने फैसलों से रचते हैं. अब तक आप मुझे मेरे संगीत के कारण जानते थे. अब मैं चाहता हूं कि आप मेरे बारे में पढ़ें. आप मेरे सफर की कहानी पढ़ें.’

A-R-Rahman-4

 

ए.आर. रहमान को मिले पुरस्कार
6 राष्ट्रीय पुरस्कार
2 अकादमी पुरस्कार
2 ग्रैमी पुरस्कार
1 बाफ्टा
1 गोल्डन ग्लोब
इसके अलावा भी इस महान संगीतज्ञ को कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं.